कहानी

ये तो पत्थर के बने हैं

सिकन्दर कुमार मेहता
एक बच्चा अपनी माँ के साथ मंदिर गया । मन्दिर के मुख्य-द्वार  पर पत्थर से बने दो शेर को देख बच्चा रोने लगा और कहा कि वह काट लेगा । मां ने समझाया कि ये पत्थर के बने हैं, यह काट नहीं सकता ।

image

आगे बढ़ने पर वह पत्थर के बने दो मुस्टंडे द्वारपाल हाथ में भला लिए खड़ा था को देखा ।
बच्चा फिर रोने लगा और कहा कि यह मुझे मार देगा ।
माँ ने फिर समझाया कि ये पत्थर के बने है यह तम्हें नहीं मार सकता ।

image

अब बच्चा मन्दिर के अंदर पहुंच गया ।
माँ ने फूल आरती मूर्ति पर चढ़ाने लगा ।
बच्चा – मां ये क्या कर रही हो ?
” देख नहीं रहे हो पूजा कर भगवान से कुछ मांग रही हूं “- माँ ने कहा ।

image

बच्चे ने बड़ी मासूमियत से कहा की ये भी तो पत्थर के बने हैं यह कैसे कुछ दे सकता है ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s