Mother Teresa: Myth, miracle and reality

Religion aside, a rationalist’s point of view on Mother Teresa and the sainthood
Follow Tweets By @1manatheist

image

By Sanal Edamaruku

India, especially Calcutta, is seen as the main beneficiary of Mother Teresa’s legendary ‘good work’ for the poor that made her the most famous Catholic of our times. Evaluating what she has actually done here, I think, India has no reason to be grateful to her.
Mother Teresa has given a bad name to Calcutta, painting the beautiful, interesting, lively and culturally rich Indian metropolis in the colors of dirt, misery, hopelessness and death. Styled into the big gutter, it became the famous backdrop for her very special charitable work. Her order is only one among more than 200 charitable organizations, which tryto help the slum-dwellers of Calcutta to build a better future. It is locally not very visible or active. But tall claimslike the absolutely baseless story of her slum school for 5000 children have brought enormous internationalpublicity to her institutions. And enormous donations!

SAINTHOOD A SCAM

The most important of the bundled paranormal claims is the miracle, which Teresa has allegedly done on her first death anniversary. At least one proven after-death-miracle is a mustfor any saint. Teresa’s managers have offeredthe “Healing of Monica Besra” for this purpose and the Vatican has officially accepted it as a suitable ticket to sainthood. But unexpectedly the miracle has met with a tough challenge. Stripped off the veil of holiness, it looks like a rough-cut fake.
Catholic church needs”miracles” to declare people as saints. They. made Mother Teresa a saint because one Monica Besra’s ovarian tumor disappeared “miraculously” when she placed a picture of Mother Teresa on the abdomen and prayed.Itis a classical scam.Monica Besra’s ovarian tumor was not cured by the supernatural powers of Mother as the Catholic Church claimed. The Missionaries of Charity insisted it was. The Vatican has approved the story officially as a first-class miracle.Medical records clearly prove that it was sheer conventional medical treatment that rescued her life.The case of the miracle makers won’t stand in front of any real test. Their witnesses have vowed to keep mum, not to contradict each other. Their certifiers are anonymous and untraceable. Their proof is obviously faked. And to top it all: their crown witness hasvanished!.

MIRACLE AGENTS AT WORK

The miracle documentation of the Catholic Church claims that several doctors have certified that the healing was “scientifically inexplicable”, but not a single of these anonymous witnesses could so far be traced. The former health minister of West Bengal, Partho De, reveled  that he had been approached by the Vatican agents and asked to name a doctor, who would certify that Monica Besra’s healing was a miracle. He declined support. After ordering the medical records of the case in February 2000 for scrutiny to the Kolkata (Calcutta) health department, he was convinced that there was nothing unusual about the disappearance of the tumor after prolonged medical treatment.Knitting her saintly cowl with relentless efforts, the miracle agents of the Vatican under the leadership of chief investigator Brian Kolodiejchuk have identified several hundred examples for Mother Teresa’s supernatural capacities.On the basis of this report, the Albanian born nun entered in annals of saints as the speediest one in the history of the Catholic Church.

MEDICAL TREATMENT OF MONICA BESRA

Heart piece of the Vatican’s “proof” is a statement of crown witness Monica Besra. It leaked, despite utmost secrecy, to the press. In this statement,Besra describes that she was suffering from terrible pain from a giant tumor in her stomach and nearly lostall hope. She left her family to seek help withthe Missionaries of Charity in Kolkata. On 5October, 1998, Mother Teresa’s first death anniversary, she prayed to her ardently. Two nuns, sister Bartholomea and sister Ann Sevika, took a silver medallion with Mother’s picture from the wall and tied it on Monica’s body with a black thread, right on the tumor. The pain vanished the same night and never came back. Her stomach became smaller and smaller and in the morning she felt that the tumor had vanished. She was miraculously healed !
The reality was different. Dr. Manju Murshed, superintendent of the government hospital in Balurghat, informed that Monica Besra was admitted in the hospitalwith severe pain. She suffered from tubercular meningitis and from an ovarian tumor, which was discovered during an ultra-sound investigation. She was subsequently treated by Dr.Tarun Kumar Biwas and the gynecologist Dr. Ranjan Mustafi.
After she left the hospital, the treatment was continued in the North Bengal Medical Collegeand Hospital and endedsuccessfully in March 1999. A final ultra-sound investigation showed that the tumor had disappeared.

SHROUD OF SECRECY

Monica Besra is a tribal woman from Dulidnapur village. She is illiterate and speaks her tribal mother tongue only, laced with a few words of broken Bengali. Until recently she has not been a Christian. The statement is written in fluent English and shows familiarity with details of Catholic belief. It is obvious that the text has not been written or dictated by her. But Monica Besra is not available to bring light into the murky story: she has vanished.
She must be “under the protection of the church”, suspect those close to her. She was not seen, since her name, despite all efforts of secrecy, became public. And the nuns involved in the miracle keep their lips sealed. “An objective miracle has happened”, explains archbishop D’Souza of Kolkata. “The sisters don’t want to give different versions as that would spoil things.”

MIRACLE CLAIMS ARE DANGEROUS

If this obvious fraud is not brought to book and if the idea of miraculous healing getscredence, it will have dangerous consequences for the uneducated and the poor.Confidence in modern medicine and science has to be developed and strengthened and people have to be encouraged to use available medical facilities for treatment instead of taking to superstition and miracle belief. The efforts should be to expand the outreach of the modern medicine to all strata of the society.

“YOU ARE SUFFERING; THAT MEANS JESUS IS KISSING YOU”

The legend of her Homes for the Dying has moved the world totears. Reality, however,is scandalous: In the overcrowded and primitive little homes, many patients have to share a bed with others.
Though there are many suffering from tuberculosis, AIDS and other highly infectious illnesses, hygiene is no concern. The patients are treated with good words and insufficient (sometimes outdated) medicines, applied withold needles, washed in lukewarm water. One can hear the screams of people having maggots tweezered from their open wounds without pain relief. On principle, strong painkillers are even in hard cases not given.
According to Mother Teresa’s bizarrephilosophy, it is “the most beautiful gift for a person that he can participate in the sufferings of Christ”.
Once she tried to comfort a screaming sufferer: “You are suffering, that means Jesus is kissing you!” The suffering ones should answer the patrons of charity business: “Tell your Jesus to stop kissing.”

CALL AGAINST POPULATION CONTROL

When Mother Teresa received the Nobel Peace Price, she used the opportunity of her worldwide telecast speech in Oslo to declare abortion the greatest evil in the world and to launch a fiery call against population control.
Her charitable work, she admitted, was only partof her big fight against abortion and population control. This fundamentalist positionis a slap in the face of India and other Third World Countries, wherepopulation control is one of the main keys for development and progress and social transformation. Do we have to be grateful to Mother Teresa for leading this worldwide propagandist fight against population control, one of the mosteffective ways to end poverty, with the money she collected in the name of the poor?

SERVED THE RICH OF THE WEST; NOT THE POOR IN CALCUTTA

Mother Teresa did not serve the poor in Calcutta, she served the rich in the West. She helped them to overcome their bad conscience by taking billions of Dollars from them. Some of her donors were dictators and criminals, who tried to white wash their dirty vests.
Mother Teresa revered them for a price. Most of her supporters, however, were honest people with good intentions and a warm heart, who fall for the illusion that the “Saint of the Gutter” was there to wipe awayall tears and end all misery and undo all injustice in the world. Those in love with an illusion often refuse to see reality.

Sanal Edamaruku is an author and rationalist, and the founder-president of Rationalist International.

Disclaimer: The opinions expressed in this articles are the personal opinions of the author. 1manatheist is not responsible for the accuracy, completeness, suitability or validity of any information in this article. The information,facts or opinions appearing in this article do not reflect the views of 1manatheist and 1manatheist does not assume any liability on the same.

Brought To You By- Sikandar Kumar Mehta

Follow me –
Facebook –एक नास्तिक -1manatheist
Twitter-@1manatheist

Advertisements

शपथ ग्रहण के दिन नीतीश कुमार का एक्सक्लूसिव लेख: ‘बिहार के लिए पीएम के साथ मिलकर काम करूंगा’

image

नीतीश कुमार

नीतीश कुमार जेडीयू के नेता हैं और बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में चौथी बार फिर आज शपथग्रहण करने जा रहे हैं)
बिहार के लोगों की सेवा करने का जो अवसर मिला है, उसके लिए मैं आभारी हूं। इतिहासकार भरोसे के साथ कहते हैं कि प्राचीन भारत का गौरवशाली इतिहास प्राचीन बिहार का इतिहास है। वैसे आज ये आम जानकारी है कि बिहार भारत का सबसे ग़रीब राज्य है और अगर इसके आकार के दुनिया भर के राज्यों से इसकी अलग से तुलना की जाए तो ये दुनिया का सबसे गरीब राज्य है।
क्या यही सब कुछ है? मैं ऐसा नहीं सोचता।
मैं मानता हूं कि बिहार देश में बहुत बड़ी संभावनाओं वाला राज्य है और विकसित भारत की कहानी विकसित बिहार की कहानी के बिना संभव नहीं है। मैं इसे यथार्थ में बदलने के लिए काम करता रहा हूं, करता रहूंगा।बिहार की मज़बूती, कमज़ोरी, इसके अवसर और इसकी प्रगति की चुनौतियों के बहुत सरल विश्लेषण से भी बिहार की संभावना को रेखांकित किया जा सकता है। बिहारकी ताकत इसके लोगों में- ख़ासकर यहां की महिलाओं, यहां के नौजवानों, इसकी उपजाऊ ज़मीन, इसके प्रचुर जल स्रोतों, हज़ारोंवर्षों की इसकी समृद्ध विरासत औरबड़ी तेज़ी से फैल रहे बहु कुशल अनिवासी बिहारियों में है।साथ ही साथ, बिहार के बहुत सारे कमज़ोर मोर्चे भी हैं।
बिहार बुनियादी ढांचे और संस्थानों के विकास में बाकी देश से पीछे छूट गया, जो भारत के दूसरे समृद्ध और बेहतर विकसित राज्यों का मामला नहीं है। बुनियादी ढांचे और संस्थानों की कमी ने ज्ञान सृजन में एक बड़ी कमी को जन्म दिया है।इसके अलावा, बिहार चारों तरफ़ से ज़मीन से घिरा है। झारखंड के बिहार से अलग होने के बाद, बिहार के पास प्राकृतिक संसाधन भी नहींरह गए। तो कुछ अंतर्निहित कमज़ोरियां हैं जिनसे राज्य को जूझना है।बहरहाल, भविष्य उज्ज्वल है। बिहार की मज़बूती कोई उससे छीन नहीं सकता, जबकि उसकी कमज़ोरियांदूर करने के लिए व्यवस्थागत ढंग से काम किया जा सकता है। इसी बिंदु पर सबसे ज़्यादा अवसर बने हुए हैं। किसी भी दूसरे राज्य को सुशासन और नीति निर्माण से उतना फ़ायदा नहीं हो सकता, जितना बिहार को। यह केंद्र सरकार की ज़िम्मेदारी है कि वह देश के भीतर बढ़ती विकराल गैरबराबरी को सहायक नीति निर्माण के ज़रिए दूरकरे। विशेष राज्य का दर्जा ऐसा ही नीतिगत कदम है।
बिहार में बुनियादी ढांचे की बराबरी हासिल करने के लिए सड़क, रेल, बिजली, शिक्षा और स्वास्थ्य में निवेश करने भर से राज्य की अर्थव्यवस्था रफ़्तार पकड़ लेगी। नेतृत्व और शासन यह सुनिश्चित करने में अहम भूमिका निभाएंगे कि बिहार को उसका प्राप्य मिले और ज़रूरी आधारभूत और संस्थागत विकास हासिल करने केलिए परियोजनाओं को वक़्त पर पूराकिया जाए।
आज बिहार तकनीक की मदद से विकास के कई डग एक साथ भर सकता है। डिजिटल क्षमता से लैस बिहार किफायती तरीक़े से बेहतर स्तर कीशिक्षा, स्वास्थ्य सुविधाएं और सामाजिक कल्याण मुहैया करा सकता है। राज्य के मूल बुनियादी ढांचेकी बेहतरी, बेहतर शिक्षा और युवाओं के प्रशिक्षण, दुरुस्त कानून-व्यवस्था और बिजली की उपलब्धता निवेश और उद्यमिता की बेहद ज़रूरी बुनियाद रख देगी। यहां से बैंकों से मिलने वाला कर्ज़ निजी क्षेत्र के विकास को बढ़ावा देने में काफी अहम भूमिकानिभाएगा। इस फ्रेम में, आप जहां भी देखें, निवेश की एक भूमिका है- चाहे वह बुनियादी सुविधा के विकास में हो, नौजवानों के कौशल और ज्ञान को बढ़ावा देने में हो या निवेश और उद्यमिता को सक्षम बनाने में हो। बिहार में निवेश का मामला सरल है और यह निवेशकों, राज्य और समाज को बिल्कुल समयबद्ध फायदा देगा।
इसके अलावा खेती के खाके पर भी काम चलता रहना चहिए, जो भारत को दूसरी हरित क्रांति की तरफ ले जाने के लिए राज्य द्वारा खींचा गया है, जिसकी मैं अक्सर एक रेनबोरिवॉल्यूशन (सतरंगी क्रांति) की तरह कल्पना करता हूं। बिहार छोटेकिसानों का राज्य है जिनके पास देश की सबसे उपजाऊ भूमि है। खेती का खाका साफ़ तौर पर ऐसा नीतिगत दृष्टिकोण बनाता है जिससे खेती महत्वपूर्ण ढंग से और उत्पादक हो सके।
शहरीकरण वह एक और अहम क्षेत्र है जहां बिहार में अवसर ही अवसर हैं। आज बिहार के नौ में से एक ही आदमी शहरी इलाक़े में रहता है। इसे स्वाभाविक ढंग से बढ़ना है और अगले दस साल में कम से कम दुगुना हो जाना है। राज्य इस सूरत का फायदा उठा सकता है, बस यह सुनिश्चित करके कि बिहार के शहरीकेंद्र बेहतर ढंग से नियोजित हों, वहां बिजली हो और वे रोज़गारसृजन के लंगर बन सकें।
आधुनिक तकनीक के साथ, इसे कहीं बेहतर रफ़्तार और सुनिश्चित परिणामों के साथ हासिल किया जा सकता है।
बिहार के लिए एक अहम मौक़ा राज्य के अनिवासी लोगों का का बहुत बड़ा आधार है जिनके पास तरह-तरह के कौशल हैं और ढेर सारे संसाधन हैं। राज्य से उनका ज़ुड़ाव सिर्फ़ संपत्ति और उनके विस्तृत परिवार तक ही सीमित नहीं है जो राज्य में रह रहा है, बल्कि यह एक गहरा भावनात्मक जुड़ाव है और उनको बिहार के विकास के लिए काम करने को प्रेरित करता है।
मैं इसे बहुत बड़ी संभावना के तौर पर देखता हूं कि अनिवासी बिहारियों के ज्ञान, साधनों और उनकी आकांक्षाओं को राज्य के विकास केमुद्दे की तरफ मोड़ा जा सकता है।मुझे उन ख़तरों का भी पूरा-पूरा एहसास है जो बिहार लगातार झेल रहा है। एक तो, राज्य प्राकृतिक आपदाओं- ख़ासकर बाढ़ और अकाल का मारा है। पहले से ही बढ़ा हुआ ये खतरा जलवायु परिवर्तन को देखते हुए और बड़ा हो सकता है। दूसरे, हमारे बेहद घनी आबादी वाले और गरीब राज्य में जाति और धर्म अहम भूमिका निभाते हैं। इसलिए बिहार अन्याय, निष्क्रियता और विभाजक ताकतों का भी आसान शिकार है। जहां सक्रिय शासन से प्राकृतिक आपदा के ख़तरों को कम किया जा सकता है, वहीं सामाजिक मोर्चे पर राज्य को सहनशील बनाने का इकलौताउपाय न्याय के साथ विकास का नज़रिया है।
बिहार की सरकार ऐसी होनी चाहिए जो विकास कर सके, उसके फायदों को सबसे कमज़ोर तबकों तक पहुंचा सके, और सामाजिक समरसता को लगातार मज़बूत कर सके। दुनिया में कहीं भी किसी गरीब राज्य को बांटने वाली नीति और राजनीति से नहीं बदला गया है। तो बिहार के आगे बढ़ने का इकलौता रास्ता मज़बूत नेतृत्व, सुशासन और न्यायके साथ विकास है।राज्य की मज़बूती, कमज़ोरी, उसके अवसरों और ख़तरों का यह सरल विश्लेषण भी राज्य की बेतहाशा संभावनाओं को सामने रख देता है। मेऱी कल्पना इस संभावना को मूर्त रूप देने की है। मज़बूतियों का पूरा-पूरा इस्तेमाल करना होगा- नौजवानों में आगे बढ़ने और योगदान करने का हुनर हासिल करना होगा, महिलाओं को समाज में अपनी समुचित भूमिका निभानी होगी. हमारी ज़मीन की उत्पादकता बढ़ानी होगी, जल संसाधनों के इस्तेमाल को उत्पादक बनाना होगा और दुनिया भरके लोगों को अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का अऩुभव कराना होगा। कमज़ोरियों को कम करना होगा। इसके लिए चाहे जो भी करना पड़े।
बिहार को आधारभूत ढांचे, संस्थाओं और ज्ञान के मामले में बराबरी हासिल करनी है।यह राज्य और केंद्र सरकार की ज़िम्मेदारी है।
अक्सर लोग बिहार के चूके हुए मौकों की बात करते हैं। अब और नहीं। मेरी कल्पना ऐसा दृष्टिकोण विकसित करने की है जिससे बिहार अपने अवसरों का पूराइस्तेमाल करेगा। हमारे नौजवान लड़के-लड़कियां- और वे करोड़ों में हैं- बेहतर प्रशिक्षित होंगेऔर किसी भी दूसरे राज्य के लोगों से सक्षम होंगे। हमारे नगर और शहर बेहतर जीवन स्तर और रोज़गार के अवसर मुहैया कराएंगे। और राज्य उद्यमियों और निवेशकों के हब के रूप में विकसित होगा।
साथ ही, हमारे गांव आत्मनिर्भर और जीवंत होंगे। इस बार बिहार दूसरी हरित क्रांति में सिर्फ शामिल नहीं होगा, बल्कि उसका नेतृत्व करेगा।जहां मैं इन लक्ष्यों की ओर काम कर रहा हूं, मैं लोगों के लिए सबसे अहम संदेश भी साफ़ कर दूं। मैं एक ऐसा राज्य बनाने में लगूंगा जो हमेशा-हमेशा के लिए कुशासन की कहानी की छाया से मुक्त हो जाए। यह खयाल और डर कि बिहार कभी भी गैरज़िम्मेदार हुकूमत और कानून-व्यवस्था की ओर लौट सकता है, लोगों के दिलो-दिमागसे दूर होना चाहिए।मेरी मूल ताकत सुशासन, समग्र विकास और सामाजिक समरसता देने कीक्षमता है।
जैसा कि मैंने बीते नौ सालों में कोशिश की है, मेरी हसरत एक ऐसा राज्य बनाने की है जहां मज़बूती संस्थागत हो जाए। और मैं ये कोशिश हमेशा हमेशा जारी रखते हुए, ऐसा राज्य बनाना चाहता हूं जो सकारात्मक भविष्य, जीवंत संस्कृति और टिकाऊ समरसता की दास्तान को भरोसे के साथ आगे ले जा सके। और ये हासिल करने में, मैं बिहार के हक़ में भारत सरकार और माननीय प्रधानमंत्री के साथ तत्परता के साथ काम करूंगा।
सिकन्दर कुमार मेहता
Folliw me on Twitter

मुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री के अहम दावेदार, जो विधायक भी न बन पाए

दिल्ली में सबसे बड़ा उलटफेर कृष्णानगर सीट पर हुआ जहां, बीजेपी की मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार किरण बेदी AAP के एसके बग्गा से 2476 वोटों से चुनाव हार गई हैं. किसी सिटिंग मुख्यमंत्री या मुख्यमंत्री कैंडिडेट के चुनाव हारने का यह पहला मामला नहीं है. इतिहास खुद को दोहराता है.

कबकब हारेCM और CM कैंडिडेट

1. 1990 में हरियाणा के मुख्यमंत्रीओम प्रकाश चौटाला मेहम विधानसभा में कांग्रेस के आनंद सिंह डांगी से चुनाव हारे. इससे पहले मेहम विधानसभा के उपचुनाव में जोरदार हिंसा के चलते चौटाला को इस्तीफा देना पड़ा था. हालांकि कुछ महीनों बाद ही वह दोबारा इस पद पर लौट आए थे.

2. शिबू सोरेन, सिटिंग सीएम, उपचुनाव हारे. तारीख थी 9 जनवरी 2009. तमार सीट पर उपचुनाव में शिबू सोरेन को झारखंड पार्टी के नए नवेले नेता गोपाल कृष्णन उर्फराजा पीटर ने 9 हजार वोटों से हराया.

3. भुवन चंद खंडूरी, सिटिंग सीएम, 6 मार्च 2012 को बीसी खंडूरी कोटद्वार विधानसभा सीट से चुनाव हार गए.

4. हेमंत सोरेन, सिटिंग सीएम, दुमका सीट से मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन 5000 मतों से हारे. बीजेपी की लुइस मरांडी ने हराया.

5. शीला दीक्षित ,सिटिंग सीएम, 2013 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल ने 26 हजार से ज्यादा वोटों से हराकर सबको चौंका दिया.

6. किरण बेदी, सीएम कैंडिडेट, कृष्णा नगर सीट से किरण बेदी आम आदमी पार्टी के एसके बग्गा से 2476 वोटों से चुनाव हार गईं.

सिकन्दर कुमार मेहता
Sikandar Kumar Mehta

रामसेतू का सच / Truth of RamSetu

तिल को पहाड़ साबित करने की साजिश,जिससे उसके धर्म की महानता के बारे में दुसरे धर्मों के लोग भी जानें ।
समुद्र में आलतु फालतु चीजों के जुडने से कुछ पुल जैसा दिखने लगा है,,
‘क्या बालू की भीत पर खड़ा है हिन्दू धर्म?”
डा. सुरेन्द्र कुमार शर्मा ‘अज्ञात’ का लिखा लेख ”कहां से टपका रामसेतु” इस विषय पर पढते हैं तो पता चलता है कि यह नाम ” राम सेतु”  शब्द तक किसी ग्रंथ में कहीं नहीं मिलता,,कंकर-पत्थ्र  जम-जम कर जो आज  कहीं है कहीं नहीं तो कहीं 10 फुटचौडी पटटी दिखायी दे जाती  है इसको हिन्दू ग्रंथों का 10 योजन अर्थात 128 किलोमीटर चौडा पुल कहा जा रहा,,
लंबाई की बात करें तो श्रीलंका से हिन्दुस्तान की इस हिस्से कुल दूरी 30 किलोमीटर लम्बी है जबकि ग्रंथ में पुल की 1468 किलोमीटर लिखी है,,,विविदित पुल  की लंबाई 30 किलोमीटर ,चौडाई कहीं 10 से  कहीं30 फुट तक ,जबकि रामायण के अनुसार-चौडाई 128 किलोमीटर लंबाई 1288 किलो मीटर वानरों ने पहले दिन 14 योजन, तीसरे दिन 21 योजन, चौथे दिन 22 योजन और 5वें दिन 23 योजन लंबा पुल बांधा इस तरह नल ने 100 योजन अर्थात 1288 किलोमीटर लंबा पुल तैयार किया, पुल 10 योजन अर्थात 128 किलोमीटर चौडा था,
दश्योजनविस्तीर्ण शतयोजनमायतम्दद्टशुर्देवरांधर्वा- नलसेतुं सुदुष्करम–वाल्मिकी रामायण 6/22/76लम्बाई-वाल्मिमिकीरामायण के अनुसार यह नलसेतु 100 योजन अर्थात 1288 किलोमीटर लंबा था (संस्कृत इंगलिश डिक्शनरी के अनुसार 1 योजन 8-9 मील का होता है, यहां हम ने 8 मील मान कर यह किलोमीटर में 1288 का आंकडा दिया है, यदि 9 मील का योजन मानें तो 100 योजन 1468 किलोमीटर होगा) पर अब जो पुल है वह तो केवल 30 किलोमीटर है, शेष 1258 अथवा 1438 किलोमीटर है कहां है ?
पानी में तैरते पत्थरों का सच-
प्यूमिस पत्थर कहीं से हासिल करके उनको उस सेतु का पत्थर बताया जाता है जिससे भारतीय पढे लिखे भी भ्रमित हो रहे  हैं ।

A piece of processed pumice resting on a plastic bag.

Floating stones
उज्जैन साइंस कॉलेज के पूर्व विभागाध्यक्ष डॉ आर एन तिवारी के अनुसार ज्वालामुखी फटने के बाद जब लावा जमता है तो ऐसे पत्थर बनते हैं इनका घनत्व कम होने के कारण यह पानी में तैर सकते हैं,,,,,एसे पत्थरों को प्यूमिस स्टोनPumice Stone कहा जाता है, वहीं भौमिकी अध्ययनशाला विक्रम विश्वविद्यालय के अध्यक्ष डॉ़ प्रमेंद्र देव ने बताया कि बसाल चटटानों के कारण ऐसे पत्थर बनते हैं, सतह पर छिद्र होने के कारण वजन कम होता है इस कारण यह पानी पर तैर सकते है !ं
वीडियो देखें
अधिक जानकारी हेतु यहाँ क्लिक करें
बडे साइज का Large Pumice Stone इधर देखे


Adam Bridge?:

Adam Peak in Sri Lanka
रोचक तथ्य
If Hanuman had got super natural power to alter his size and according to legend as stated abovethat he had already tried to ate the Sun when he was just a child.  The diameter of Sun is 1.4 million kilometer, In order to eat sun, Hanuman has to increase his mouthsize more 1.4 million kilometer, If the above legend is true, Then why Rama had to build the bridge acrossthe Sea between India and srilanka,
If even Hanuman could increased his body size and put his finger tip on sea between India and Sri Lanka,itself be enough for Rama and Vanara sena to cross the Sea between two countriesAccording to the legend Hanuman is capable of flying.
So he could just increase his body size and could took Rama and Vanara Sena in just Palm of one hand and easily flown to Sri Lanka.Normally People travel on the sea in Boats and ships.British, French, Spanish, Portuguese traveled thousands of Miles/Kilometers across Seas or Ocean in order to reach India.
This Proves that the Adam Bridge is Natural form, Since the Epic Ramayana was written by Valmiki who just Glorified the Character of his fairy tale story Ramayana whose statements itself Contradict.This also Proves that this Story  written by Sage Valmiki is  Baseless without any logic & Just Bedtime Fairy Tale Stories for Small Kids.
Paganism or Idolatory makes a Person Blind, Dumb & Deaf, Just Like Locking themselves in a Dark Room from inside & then throughing Keys from Window to outside. Please use your are Brains& judge whether  these mythologically characters & theirs Idols are worthy of worship or not ?

Note:  Any Person can easily construct a Small Boat & cross the sea shore between India and Sri lank, rather than thinking of  Building a Huge Bridge just to crossover the sea.with Thanks:
For detail : Click here

संग्रहकर्ता –सिकन्दर कुमार मेहता
Facebook ,Twitter,Blog
Call Me – +917654005454