इस गांव में होती है चमगादड़ों की पूजा, माना जाता है लक्ष्मी का प्रतीक

image

वैसे तो आपने चमगाद़डों को देखा होगा, लेकिन बिहार के वैशाली जिले के राजापाकर प्रखंड के सरसई (रामपुर रत्नाकर) गांव में चमगादडों की न केवल पूजा होती है, बल्कि लोग मानते हैं कि चमगाद़ड उनकी रक्षा भी करते हैं। इन चमगादडों को देखने के लिए पर्यटकों की भी़ड लगी रहती है। यहां लोगों की मान्यता है कि चमगाद़ड समृद्धि की प्रतीक देवी लक्ष्मी के समान हैं। सरसई गांव के एक बुजुर्ग गणेश सिंह का मानना है कि चमगाद़डों का जहां वास होता है, वहां कभी धन की कमी नहीं होती।

ये चमगाद़ड यहां कब से हैं, इसकी सही जानकारी किसी को भी नहीं है। सरसई पंचायत के सरपंच और प्रदेश सरपंच संघ के अध्यक्ष अमोद कुमार निराला आईएएनएस को बताते हैं कि गांव के एक प्राचीन तालाब (सरोवर) के पास लगे पीपल, सेमर तथा बथुआ के पे़डों पर ये चमगाद़ड बसेरा बना चुके हैं। उन्होंने बताया कि इस तालाब का निर्माण तिरहुत के राजा शिव सिंह ने वर्ष 1402 में करवाया था। करीब 50 एक़ड में फैले इस भूभाग में कई मंदिर भी स्थापित हैं।

उन्होंने बताया कि रात में गांव के बाहर किसी भी व्यक्ति के तालाब के पास जानं के बाद ये चमगाद़ड चिल्लाने लगते हैं, जबकि गांव का कोई भी व्यक्ति के जाने के बाद चमगाद़ड कुछ नहीं करते। उन्होंने दावा किया कि यहां कुछ चमगाद़डों का वजन पांच किलोग्राम तक है। सरसई पंचायत के मुखिया चंदन कुमार बताते हैं कि सरसई के पीपलों के पेड़ों पर अपना बसेरा बना चुके इन चमगादडों की संख्या में लगातार वृद्धि होती जा रही है। गांव के लोग न केवल इनकी पूजा करते हैं, बल्कि इन चमगाद़डों की सुरक्षा भी करते हैं।

यहां के ग्रामीणों का शुभ कार्य इन चमगाद़डों की पूजा के बगैर पूरा नहीं माना जाता। जनश्रुतियों के मुताबिक, मध्यकाल में वैशाली में महामारी फैली थी, जिस कारण ब़डी संख्या में लोगों की जान गई थी। इसी दौरान ब़डी संख्या में यहां चमगाद़ड आए और फिर ये यहीं के होकर रह गए। इसके बाद से यहां किसी प्रकार की महामारी कभी नहीं आई। स्थानीय आर एन. कॉलेज के प्रोफेसर एस पी श्रीवास्तव का कहना है कि चमगाद़डों के शरीर से जो गंध निकलती है, वह उन विषाणुओं को नष्ट कर देती है जो मनुष्य के शरीर के लिए नुकसानदेह माने जाते हैं। यहां के ग्रामीण इस बात से खफा हैं कि चमगाद़डों को देखने के लिए यहां सैक़डों पर्यटक प्रतिदिन आते हैं, लेकिन सरकार ने उनकी सुविधा के लिए कोई कदम नहीं उठाया है।

यह भी पढ़ें – पूजा ‘कुतिया देवी’ की !

सरपंच निराला बताते हैं कि इतनी ब़डी संख्या में चमगाद़डों का वास न केवल अभूतपूर्व है, बल्कि मनमोहक भी है, लेकिन यहां साफ -सफाई और सौंदर्यीकरण की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित कराने के लिए पिछले 15 वर्षो से प्रयास किया जा रहा है, मगर अब तक स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ। उन्होंने बताया कि पूर्व पर्यटन मंत्री सुनील कुमार पिंटू और कला संस्कृति मंत्री विनय बिहारी ने इस क्षेत्र का दौरा भी किया था। निराला को आशा है कि वर्तमान समय में राजापाकर के विधायक शिवचंद्र राम कला एवं संस्कृति मंत्री बनाए गए हैं।शायद इस क्षेत्र का कायाकल्प हो जाए।
स्रोत -खासखबर

प्रस्तुतकर्ता –सिकन्दर कुमार मेहता

हमसे जुड़ें –
फेसबुक – एक नास्तिक -1manatheist
ट्विटर – @1manatheist

Exposing The Reality Of Hindu Gods

1. Brahma & Saraswati God

image

Brahma is one of the three main gods-Trimurti-of the Hindu pantheon. He is the creator of the universe,Saraswati, who became the wife of her own father, was the daughter of Brahma. There are two stories about her genesis in the“Saraswati Purana”.
One is that Brahma created his beautiful daughter Saraswati direct from his “vital strength” or seminal fluid.
The other is that Brahma used to collect his semen in a pot whenever he masturbated fixing his carnal eyes on the celestial beauty Urvasi. Brahma’s semen in the pot gave birth to Saraswati. Thus,Saraswati had no mother.
This daughter or grand-daughter of Brahma is the Hindu goddess of learning. When Brahma saw the beauty of Saraswati he became amorous. To escape from her father’s passionate approach Saraswati ran to the lands in all four directions, but she could not escape from her father. She succumbed to Brahma’s wish. Brahma and his daughter Saraswati lived as husband and wife indulging in incest for 100 years. They had a son Swayambhumaru. Swayambhumaru made love with his sister Satarpa.Through the incest of Brahma’s son and daughter Brahma got two grandsons and two grand-daughters.  

2. Shiva – Hindu God (aka Destroyer)

image

God Shiva had two wives – Ganga and Parwati. It was while Shiva was frolicking and making love with Parwati in the forest in the form of elephants that Ganapati, the god with the head of an elephant was born. On another occasion when Shiva was frolicking with Parwati in the form of a monkey,Hanuman the monkey god was born.
Once when Parwati was away, Shiva had sexual inter course with a woman called Madhura, who came to Kailas to worship him. On her return, Parwati saw her husband Shiva making love with Madhura, and she became a frog. When the period of the curse was over after twelve years, the frog took the form of Mandodari who became the wife of Ravana, the ten-headed king of Lanka. The sperm of Shiva which remained dormant in the womb of Mandodari when the was frog began to develop, and finally gave birth to Indrajit. Thus, the so-called son of Ravana-Indrajit of Lanka-was an intelligence son of Shiva.  

3.Indra – Hindu Gods (aka Varana)

image

Tiruchchirappalli Painting Of Indra

Indra is the head of all gods. Amarawati was his celestial residence. Arjun was born to Indra as a result of his clandestine adultery with Pandu’s wife, he had no hesitation in committing adultery with the wives of other men. One day when Indra saw Ruchi, the beautiful wife of Devasarma, he became extremely passionate and wanted to seduce her. But Ruchi chased Indra out,and he had to go away disappointed.
On another occasion Indra could not control his sexual passion when he saw Goutama’s wife Ahalya. He committed adultery with Ahalya when her husband was away. On his return home Goutama saw Indra in sexual interlock with his wife. Goutama cursed both of them.
Once Aruna visited Devaloka in the disguise of a woman. When Indra saw this woman in disguise he could not control his passion. He had sexual intercourse with this imitation woman. Bali was born as the result of this un-natural homosexual cohabitation.  

4.Krishna – Hindu God (aka Adultery God)

image

Krishna is the 9th incarnation of Mahavishnu.Like Jesus Christ, Krishna was born as the “son of man” at Ambadi among cowherds. Although he had sixteen thousand and eight wives, Krishna did not let other women go free.
Once,when he saw some Gopi women bathing in the river Kalindi, Krishna carried away their clothes from thebank of the river, and got on a nearby tree to feast his eyes on the Gopi women bathing in the nude. He returned their dresses only after each of them came out of the water and worshipped him so that he could see their nude bodies in full. It is claimed that Krishna was so potent that he could satisfy all his 16008 wives at the same time.

5. Sri Rama – Hindu God

image

Sri Rama was another incarnation of Mahavishnu.He and his three brothers Lakshmanan, Bharatha and Shatrughana were born to three wives of King Dasharatha. Like Jesus, Ram and his brothers were not through a human father although Dasharatha was the husband of their mothers. They were conceived in their mothers’ wombs as a result of the three women eating portions of a sacred porridge.

6. Sabarimalai Sastha – Hindu God

image

Sabarimalai Sastha or Ayyappan also known as Sastavu,Manikandan or Sasta is a sylvan god worshipped by the credulous Hindus of Kerala and Tamil Nadu in India. He is the son born to Siva and Vishnu as a result of a homosexual act.
To escape from the curse of the powerful demon Durwasa, all the gods joined together and churned the milky ocean togather “Amrut”-a butter-like ambrosia. They collected the “Amrut” in a pot, and kept it to be served at a heavenly feast. An Asura (demon) from the nether world stole the pot of ” Amrut from Develoka. When the loss of the ambrosia was detected, the omniscient Vishnu was ableto know where it was. He went to the nether world in the guise of Mohini, a woman of exquisite beauty,and brought and back the “Amrut” and served it to the gods. When Mohini was serving the Amrut, Shiva got intoxicated with her beauty and had sexual intercourse with her, who was in reality Vishnu. Vishnu became pregnant as a result of the homosexual act, and gave birth to Sastha from his thigh. Both Shiva and Vishnu discarded this un-naturally born illegitimate child in the forests of Sabarimalai in Kerala.
From Wikipedia –
Females who menstruate (usually between the ages of approximately 12 and 50) are not allowed to enter the temple in Sabrimala, since the story attributed to Ayyappa prohibits the entry of the women in the menstrual age group. This is because Ayyappan is a Bramhachari (celibate).

7. Jagannath – Hindu God

image

Jagannath,Balabhadra and Subhadra

Jagannath is the god enshrined in the famous Hindu temple at Puri. Sankarachariya, the spiritual head of the present Hindus of India, is the devotee of Jagannath of Puri. Hundreds of measures of rice and dal are cooked here daily to feed the thousands of worshippers.
At the Jaya-Vijiya gate of this temple various type of sexual orgies of the god Jagannath can be seen sculptured on granite stones. On the outer walls of this temple are life-size sculptures of the 64 types of sexual mating of men and women as described in The Kamasutra of Vatsyayana. The dance Bhajan in this temple begins after 10 p.m each day behind closed doors. It is performed by one of the 120 dancing girls in the service of the temple. Each night a new dancing girl will have to come to the temple to dance before god Jaganath.This dance is witnessed only by the lifeless statue of Jagnnath and the Brahmin priest who plays on the musical instrument. As the dance heightens to acrescendo, the girl discards her dress and dances stark naked. She then throws herself to the statue of Jagannath in an ecstasy shouting “O Lord, I am the bride, please make love with me”.Whether it is the lifeless idol of Jagannath or the living Brahmin priest who makes love with her is not known (It is strictly forbidden for Non-Hindus to enter the Jagannatha temple).Dancing girls who have retired form the service of god Jagannath are now making both ends meet by leading a life of prostitution in the streets of holy Puri. Their patrons are the worshippers who come in their thousands to the sacred city.

Final Conclusion

In reality none of these gods exist or ever existed. They are the products of mental fantasies of some surrealistic creative thinkers of the past. Even today there are mentally deranged persons indulging in creating new gods. All the amorous stores connected with these Gods also are the subjective creations of sex-starved surrealistic thinkers obsessed with sexual thoughts.

Presented By : Sikandar Kumar Mehta

Follow Me –

Facebook – एक नास्तिक -1manatheist
Twitter – @1manatheist

क्या दुनिया से धर्म ग़ायब हो जाएगा !

क्या दुनिया से धर्म ग़ायब हो जाएगा

नास्तिकता दुनियाभर में बढ़ रही है, तो क्या धार्मिक होना अतीत की बात हो जाएगी? इस सवाल का जवाब मुश्किल नहीं, बहुत-बहुत मुश्किल है.

कैलिफ़ोर्निया में क्लेरमोंट के पिटज़र कॉलेज में सामाजिक विज्ञान के प्रोफ़ेसर फिल ज़करमैन कहते हैं, “इस समय दुनिया में पहले के मुक़ाबले नास्तिकों की संख्या बढ़ी है, और इंसानों में इनका प्रतिशत भी बढ़ा है.”

यह तथ्य गैलप इंटरनेशनल के सर्वे में उभरकर सामने आया है. गैलप इंटरनेशनल के सर्वे में 57 देशों में 50,000 से अधिक लोगों को शामिल किया गया.

सर्वे के मुताबिक़ 2005 से 2011 के दौरान धर्म को मानने वाले लोगों की तादाद 77 प्रतिशत से घटकर 68 प्रतिशत रह गई है, जबकि ख़ुद को नास्तिक बताने वालों को संख्या में तीन प्रतिशत का इज़ाफ़ा हुआ है.

इस तरह दुनिया में नास्तिकों का आंकड़ा बढ़कर 13 प्रतिशत तक पहुँच गया है.

अगर नास्तिकों की संख्या में बढ़ोतरी का सिलसिला यूँ ही जारी रहा तो क्या किसी दिन धर्म पूरी तरह से ग़ायब हो जाएगा?

धर्म का मुख्य आकर्षण है कि यह अनिश्चित दुनिया में सुरक्षा का अहसास दिलाता है.

इसलिए हैरानी नहीं होनी चाहिए कि नास्तिकों की संख्या में सबसे अधिक बढ़ोतरी उन देशों में हुई है जो अपने नागरिकों को आर्थिक, राजनीतिक और अस्तित्व की अधिक सुरक्षा देते हैं.

जापान, कनाडा, ब्रिटेन, दक्षिण कोरिया, नीदरलैंड्स, चेक गणराज्य, एस्तोनिया, जर्मनी, फ्रांस, उरुग्वे ऐसे देश हैं जहाँ 100 साल पहले तक धर्म महत्वपूर्ण हुआ करता था, लेकिन अब इन देशों में ईश्वर को मानने वालों की दर सबसे कम है.

इन देशों में शिक्षा और सामाजिक सुरक्षा की व्यवस्था काफ़ी मज़बूत है. असमानता कम है और लोग अपेक्षाकृत अधिक धनवान हैं.

न्यूज़ीलैंड की ऑकलैंड यूनिवर्सिटी के मनोवैज्ञानिक क़्वेंटिन एटकिंसन कहते हैं, “असल में, लोगों में इस बात का डर कम हुआ है कि उन पर क्या बीत सकती है.”

लेकिन धर्म में आस्था उन समाजों और देशों में भी घटी है जिनमें ख़ासे धार्मिक लोग हैं जैसे – ब्राज़ील, जमैका और आयरलैंड.

प्रोफ़ेसर फिल ज़करमैन कहते हैं, “दुनिया में बहुत कम समाज हैं जहाँ पिछले 40-50 साल के मुक़ाबले में धर्म में आस्था बढ़ी है. एक अपवाद ईरान हो सकता है लेकिन सही से आंकना मुश्किल है क्योंकि धर्मनिरपेक्ष लोग अपने विचार छिपा भी रहे हो सकते हैं.”

वैंकुवर स्थित ब्रिटिश कोलंबिया यूनिवर्सिटी के सामाजिक मनोविज्ञानी एरा नोरेनज़ायन कहते हैं, “धर्म के प्रति आस्था में कमी का मतलब इसका ग़ायब हो जाना नहीं है.”

आने वाले वर्षों में जैसे-जैसे जलवायु परिवर्तन का संकट गहराएगा और प्राकृतिक संसाधनों में कमी आएगी, पीड़ितों की संख्या बढ़ेगी और धार्मिक भावना में इज़ाफ़ा हो सकता है.

नोरेनज़ायन कहते हैं, “लोग दुख से बचना चाहते हैं, लेकिन यदि वे इससे बाहर नहीं निकल पाते तो वे इसका अर्थ खोजना चाहते हैं. कुछ कारणों से धर्म, पीड़ा को अर्थ देने लगता है.”

वे कहते हैं कि यदि दुनिया की परेशानियां चमत्कारिक ढंग से हल हो जाएं और हम सभी शांतिपूर्ण तरीक़े से समान जीवन जीएं, तब भी धर्म हमारे आस-पास रहेगा.

ऐसा इसलिए है क्योंकि मानव विकास के दौरान हमारे दिमाग में ईश्वर के बारे में जिज्ञासा हमारी प्रजाति के तंत्रिका तंत्र में बनी रहती है.

इसे जानने के लिए दोहरी प्रक्रिया सिद्धांत को समझने की ज़रूरत है. यह मनोवैज्ञानिक विषय बताता है कि बुनियादी रूप से हमारे दो विचार सिस्टम हैं. सिस्टम एक और सिस्टम दो.

सिस्टम दो हाल ही में विकसित हुआ है. यह हमारे दिमाग़ की आवाज़ है- ये हमारे दिमाग़ में बार-बार गूँजती है और कभी चुप होती- जो हमें योजना बनाने और तार्किक रूप से सोचने को मजबूर करता है.

दूसरी तरफ़ सिस्टम एक, सहज, स्वाभाविक और ऑटोमैटिक है. ये क्षमताएं इंसानों में नियमित तौर पर विकसित होती रहती हैं, इससे फ़र्क़ नहीं पड़ता कि इंसान कहां पैदा हुआ है.

वे अस्तित्व के तंत्र हैं. सिस्टम एक, बिना सोचे हमें बिना ज़्यादा प्रयास के अपनी मूल भाषा में बात करने देता है, बच्चों को माता-पिता की पहचान कराने और सजीव और निर्जीव वस्तुओं के बीच भेद करने की क्षमता देता है.

यह दुनिया को बेहतर तरीक़े से समझने, प्राकृतिक आपदाओं या अपने क़रीबियों की मौत की घटनाओं को समझने में मदद करता है.

धर्म से छुटकारा

नास्तिकों को नास्तिक बनने या बने रहने के लिए अनेक सांस्कृतिक और मानव विकास से जुड़े बंधनों के ख़िलाफ़ लड़ना पड़ता है. इंसान स्वाभाविक तौर पर ये मानना चाहते हैं कि वो किसी बड़ी तस्वीर का हिस्सा है और जीवन पूरी तरह से निरर्थक नहीं है.

हमारा मन, उद्देश्य और स्पष्टीकरण के लिए लालायित रहता है.

‘बौर्न बीलीवर्स’ के लेखक जस्टिन बैरेट कहते हैं, “इस बात के प्रमाण हैं कि धार्मिक विचारों को अपनाना मनुष्य के लिए – पाथ ऑफ़ लीस्ट रज़िज़टेंस – यानी सबसे कम प्रतिरोध का रास्ता होता है. धर्म से छुटकारा पाने के लिए आपको मानवता में शायद कुछ मूलभूत बदलाव करने होंगे.”

ईश्वर के प्रति आस्था की बात करें तो हालाँकि 20 प्रतिशत अमरीकी किसी चर्च से संबद्ध नहीं थे, लेकिन उनमें से 68 प्रतिशत ने माना कि उनका ईश्वर में विश्वास है और 37 प्रतिशत ने ख़ुद को धार्मिक बताया.

इसी तरह, दुनियाभर में उन लोगों ने जिन्होंने स्पष्ट कहा कि उनका ईश्वर में यक़ीन नहीं है, उनमें भी भूतों, ज्योतिष, कर्म, टेलीपैथी, पुनर्जन्म जैसे अंधविश्वासों की प्रवृत्ति पाई गई.

धर्म, समूह सामंजस्य और सहयोग को बढ़ावा देता है. कथित लक्ष्मण रेखा को पार करने वालों पर सर्वशक्तिमान ईश्वर की नज़र पुराने समाज को व्यवस्थित रखने में मदद करती थी.

एटकिंसन कहते हैं, “यह अलौकिक सज़ा परिकल्पना है. यदि हर कोई मानेगा कि सज़ा वास्तव में होगी तो यह पूरे समूह के लिए काम करेगी.”

अटूट विश्वास

अंत में, धर्म की आदत के पीछे कुछ गणित भी है. तमाम संस्कृतियों में जो लोग ज़्यादा धार्मिक हैं वे उन लोगों के मुक़ाबले ज़्यादा बच्चे पैदा करते हैं जिनकी धर्म के प्रति आस्था नहीं है.

विशेषज्ञों का मानना है कि मनोवैज्ञानिक, तंत्रिका विज्ञान, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और तार्किक, इन सभी कारणों को देखते हुए धर्म शायद कभी इंसानों से दूर नहीं जा सकेगा. धर्म, चाहे इसे डर या प्यार से बनाए रखा गया हो- खुद को बनाए रखने में अत्यधिक सफल रहा है. अगर ऐसा नहीं होता तो यह शायद हमारे साथ नहीं होता

प्रस्तुतकर्ता –सिकन्दर कुमार मेहता

हमसे जुड़ें –
फेसबुक – एक नास्तिक -1manatheist
ट्विटर – @1manatheist

Download Atheism Books In Pdf -1

These are some atheism books ,I have created the links for downloading it easily.
To download click on Click here.

1.Anti-theist–Christopher Mallard – [Click here]

2.An Atheist Manifesto– Joseph Lewis – [Click here]

3.Atheism- The Case Against God– George. H. Smith – [Click here]

4.Atheist Universe Excerpt– David Mills – [Click here] or [Click here]

5.Free will– Sam Harris – [Click here]

6. The God Dilusion – Richard Dawkins – [Click here]

7.Ishmael– Daniel Quinn – [Click here]

8.On Being Certain Believing You Are Right– Robert. A. Burton – [Click here]

9.The Atheist’s Bible– Joan Konner – [Click here]

10.The Necessity of Atheism– Dr. D.M. Brooks – [Click here]

11.The Rage Against God– Peter Hitchens – [Click here]

12.Why I Am Not A Muslim– Ibn Warraq – [Click here]

13. The Bible of the Good and Moral Atheist – Angelfire [Click here]

14. ‘ I’m an Atheist, Thank God !’ -Saint Arnaud [Click here]

15.God is not Great – Christopher Hitchens – [Click here]

Brought to you By – Sikandar Kumar Mehta

Follow :
Facebook : एक नास्तिक -1manatheist
Twitter : @1manatheist

क्यों पढ़े लिखे लोग लेते है अंधविश्वास का सहारा !

image

किताब :अंधविश्वास उन्मूलन (पहला भाग)
प्रकाशकः सार्थक प्रकाशन
लेखक ः नरेंद्र दाभोलकर
संपादक ः डॉ. सुनील कुमार लवटे
अनुवादक ः डॉ. चंदा गिरीश
कीमत ः 150 रुपये

पढ़े लिखे लोग चाहे वो वैज्ञानिक हो या डॉक्टर, क्योंकि अंधविश्वास के शिकार हो जाते हैं. दूसरी ओर वैज्ञानिक बातों के संस्कार आज की शिक्षा में अथवा समाज में नजर नहीं आते और वैज्ञानिक विपरीत व्यवहार करते हैं. इससे अगर बचना है, तो एक व्यूह निर्माण करना होगा, जिसकी रूप-रेखा इस प्रकार होगी.

1.मनुष्य का पहला लक्षण तर्कसंगत विचारों के अनुरूप व्यवहार करना है. असंगत विचारों पर आधारित व्यवहार उसको पराजित ही करता है. असंगत विचारों पर आधारित मार्ग भले ही उचित लगे, उन्नति का लगे, फिर भी अवांछित है, इस बात को ध्यान में रखना चाहिए.

2.अंधविश्वासी व्यवहार शोषण को खुलेआम बढ़ावा देता है, तो वहां कानून की आवश्यकता होती है. भगवान की आज्ञा का अंदाज लगाकर ही चुनाव में खड़ा होने या न होनेका निर्णय लेना अंधविश्वासपूर्ण कार्य है. कोई व्यक्तिगत स्वतंत्रता कहकर इसे सही साबित केरगा. लेकिन कोई व्यक्ति चोर है अथवा नहीं, यह साबित करने के लिए किसी जाग्रत देवता के सामने उसे उबलते तेल में हाथ डालने के लिए मजबूर करना न केवल अंधविश्वास है, बल्कि शोषण है. इसके विरुद्ध कानून होना ही चाहिए. अभी तक ऐसा कानून समूचे भारत में कहीं भी नहीं बनाया गया है. महाराष्ट्र में यह 2013 में बना है. ऐसे समाज में रहने वाले वैज्ञानिक अगर दोहरा अवैज्ञानिक व्यवहार करते हैं, तो इसमें आश्चर्य नहीं होना चाहिए.

3.अंधविश्वास के विरुद्ध जनजागरण का कार्य निःसंकोच निडरता से और प्रभावी ढंग से होना चाहिए. यह जागृति विज्ञान का प्रसार है. इस कार्य की कुछ सीमाएं भी होती हैं. अधिकांश समय,प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप में, इसमें धर्म की चर्चा होती है. इसीलिए इस कार्य का विरोध किया जाता है. बचपन से ही मनुष्य पर घर और समाज में सर्वत्र धर्म और परंपरागत आचार-विचारों के वातावरण का प्रभाव होता है. टेलीविजन चैनलों पर निरर्थक, अवैज्ञानिक धारावाहिकों का निरंतर प्रसारण होता रहता है. पाठशालाओं में सर्वधर्म समभाव की आड़ में किसी भी धर्म की चर्चा को टाला जाता है. वैज्ञानिक के अवैज्ञानिक व्यवहार को सुधारने के लिए जागरुकता अनिवार्य हो गई है. लेकिन कटु सत्य यह है कि जनजागरण के प्रमुख स्थानों पर ही अंधविश्वास का डेरा है.

4.मनुष्य के मन में बचपन से ही अवैज्ञानिक विचारों के संस्कार गहराई से जमे होते हैं. इस अंतर्मन में प्रवेश करने के लिए केवल जनजागरण पर्याप्त नहीं है. बल्कि अपने कार्य से उदाहरण पेश करने की भी आवश्यकता है. स्वयं में वह निडरता होनी चाहिए, विपरीत परिणामों का डर मन में नहीं होना चाहिए. आज की शिक्षा व्यवस्था ऐसी बातों का सर्वे तक करने के लिए राजी नहीं है. गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त न हो इसलिए उस पर नींबू और मिर्च बांधी जाती है. ऐसा करने वाले और न करने वाले गाड़ियों का सर्वे कर इस अंधविश्वास को दूर किया जा सकता है.

-नरेंद्र दाभोलकर की किताब ‘अंधविश्वास उन्मूलन’ से

7 Reasons Why India Really Needs The Anti-Superstition Bill Right Now

प्रस्तुतकर्ता  –सिकन्दर कुमार मेहता
हमसे जुड़ें-
फेसबुक –एक नास्तिक -1manatheist
ट्विटर – @1manatheist

Blind Obedience (For An Insecure God)

Believe I am what I say I am
simply because I say,
“I am”!
Do not question me.
Never ask me why!
Only…believe that I love you.
And believe that I care.
Believe that I know what’s best for you.
And believe that I’m there.

Now, Bow down to me,
Die for me,
Devote your life to me,
Do all that you do- for me,
But never question me,
Never ask me why !
Demand no proof !
Believe that I would never hurt you.
And that your blindness is a virtue.
Believe I am what I say I am simply because I say,
“I am”!

– Michael Pain
Presented By – Sikandar Kumar Mehta
Facebook –एक नास्तिक -1manatheist
Twitter – @1manatheist

न हिन्दू घटे, न मुस्लिम बढ़े, नास्तिकों की जनसंख्या जरुर बढ़ी

image

धार्मिक आधार पर जनगणना के आंकड़े आने के बाद राजनीतिक पार्टियों से लेकर तमाम मीडिया हाउसेस में बहस छिड़ी है कि हिन्दुओं की जनसंख्या घटी है या मुस्लिमों की बढ़ी है. इस बहस में एक आंकड़ों को नजरंदाज किया जा रहा है वह है किसी भी धर्म को न मानने वालों की जनसँख्या.
2001 की जनगणना में यह संख्या उपलब्ध नहीं थी लेकिन 2011 में मिले आंकड़ों के मुताबिक भारत में ऐसे लोगों की आबादी बढ़ी है.
2012 के विन-गेलाप ग्लोबल इंडेक्स ऑफ़ रिलिजन 81% भारतीय धार्मिक हैं जबकि 13 % आबादी ऐसी है जो किसी भी धर्म को नहीं मानती, उनमे से भी तीन प्रतिशत अपने आपको नास्तिक मानते हैं.
आपको बता दें कि भारत में किसी भी धर्म को न मानना मौलिक अधिकार में शामिल है.
अगर हम उत्तर प्रदेश की बात करें तो 2011 में ऐसे लोगों की जनसंख्या जिन्होंने किसी भी धर्म को न मानने की बात कही काफी ज्यादा है. इनमे वे लोग भी शामिल है जो नास्तिक हैं. अकेले उत्तर प्रदेश में ऐसे लोगों की संख्या 5, 82, 622 है. अकेले लखनऊ में इनकी संख आठ हजार से ज्यादा है.

वजह क्या है ?

जहां भारत में 79.8 प्रतिशत लोग ऐसे हैं जो हिन्दू धर्म को मानते हैं और 14.2 परसेंट इस्लाम और बाकी के 7.37 प्रतिशत अन्य धर्मों को. ऐसे में इतनी बड़ी संख्या में लोगों का किसी भी धर्म पर विश्वास न करना चौकाने वाला है.
अगर  शिक्षाविदों की माने तो इसके पीछे वजह शिक्षा और सामाजिकस्तर में बदलाव है. उनका मानना हैकि यह वे लोग है जो शिखित, जागरूक आयर सम्पान है. ये अपने आपको किसी धर्म विशेष से नहीं जोड़ना चाहते. इस विरादरी में किसी भी धर्म का इंसान हो सकता है. चाहे हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई, पारसी या अन्य.

प्रस्तुतकर्ता-सिकन्दर कुमार मेहता
हमसें जुड़ें –
फेसबुक – एक नास्तिक -1manatheist
ट्विटर – @1manatheist