Superstition In India

झारखंड: मंदिर में गला काटकर दी जान

झारखंड के प्रसिद्ध छिन्नमस्तिका मंदिर में मंगलवार की सुबह एक व्यक्ति नेपूजा के दौरान गला काटकर जान दे दी.

image

रजरप्पा थाना के प्रभारी अतिन कुमार ने बताया कि मरने वाले व्यक्ति का नाम संजय नट था. वो बिहार के बक्सर जिले के बलिहार गांव के रहने वाले थे.

पुलिस के मुताबिक संजय ने धारदार कटार से अपना गला काट लिया. इससे गर्दन का बड़ा हिस्सा धड़ से अलग हो गया.

छिन्नमस्तिका मंदिर झारखंड की राजधानी रांची से करीब सत्तर किलोमीटर दूर है.

मंदिर के मुख्य पुजारी असीम पंडा के मुताबिक सिद्धपीठ के तौर पर मशहूर इस मंदिर में बकरे की बलि की भी परंपरा है.

इस बीच रामगढ़ जिले के प्रभारी अनुमंडलाधिकारी महावीर प्रसाद ने मंदिर परिसर का जायजा लिया.उन्होंने मृतक के परिजन से बातचीत भी की.

प्रसाद ने बीबीसी को बताया कि ये तथ्य सामने आए हैं कि संजय नट पर देवी भक्ति का जुनून सवार था. हो सकता है इसी आवेग में उन्होंने अपना गला काट लिया होगा.उन्होंने बताया कि पुलिस को ये भी जानकारी मिली है कि संजय नट ओड़िशा में सीआरपीएफ के जवान के तौर पर तैनात थे. हालांकि इस बारे आधिकारिक तौर पर जानकारी जुटाई जा रही है.पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए हजारीबाग भेजा है और हथियार जब्त कर लिया है.

पुलिस को संजय के पास कागज का टुकड़ा मिला है, जिस पर उसके नाम और पते के साथ मोबाइल नंबर दर्ज है.मंदिर परिसर में लगे सीसीटीवी फुटेज से पुलिस को जानकारी हुई कि संजय नट सुबह मंदिर के पट खुलने के साथ पूजा करने पहुंच गए थे.

पहले उन्होंने कई दफा मंदिर की परिक्रमा की.स्थानीय लोगों ने उन्हें सोमवार की रात मंदिर परिसर के एक होटल में खाना खाते देखा था.

मंदिर के मुख्य पुजारी असीम पंडा ने बताया कि सुबह हुई इस घटना के बाद तत्काल पूजा-अर्चना रोक दी गई.संजय नट के शरीर का पूरा खून फर्श पर बह गया था.

इस घटना से वहां मौजूद लोग सकते में आ गए थे.पुजारी के मुताबिक घटना के बाद मंदिर के शुद्धिकरण का काम शुरू हुआ.पुलिस से मिले फोन नंबर के आधार पर जब संजय नट की पत्नी शारदा देवी से संपर्क किया गया तो वो बहुत कुछ बताने की स्थिति में नहीं थीं. लेकिन उन्होंने ये जानकारी दी कि वो बीस दिनों की छुट्टी पूरी करने के बाद रविवार को दिन में ड्यूटी पर जाने की बात कहकर निकले थे.

संजय नट ने परिवार वालों से कहा था अब वे अगली दफा वैशाख महीने में घर आएंगे.शारदा देवी ने बताया कि वो पूजा पाठ तो करते थे, लेकिन इसका कभी अभास नहीं था कि वे रजरप्पा जाकर इस तरह की घटना को अंजाम देंगे.

क्या वे सीआरपीएफ में तैनात थे, इस सवाल पर उन्होंने कहा किवो उड़ीसा पुलिस में थे.

स्रोत : BBC India

प्रस्तुतकर्ता : सिकन्दर कुमार मेहता

हमसे जुड़ें –
फेसबुक : एक नास्तिक -1manatheist
ट्विटर : @1manatheist

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s