Superstition In India

अंधविश्वास : निमोनिया होने पर मासूम को गर्म चिमटे से दागा

image
अस्पताल में भर्ती मासूम।

Follow Tweets by @1manatheist

भीलवाड़ा। जिले में अंधविश्वास का दंश मासूमों पर भारी पड़ रहा है। 24 घंटे के भीतर दो मासूसों को महात्मा गांधी चिकित्सालय में भर्ती करवाया गया है। इन दोनो मासूमों को निमोनियां होने के बाद अंधविश्वास के चलते गर्म सलाखों से दाग दिया। मासूमों की गंभीर हालत के चलते उन्हे अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां अभी भी उनकी हालत गंभीर बनी हुई है।

गंगापुर थाने के चावण्डियां ग्राम में रहने वाले मुकेश बैरवा के एक वर्षिय पुत्र राजू को निमोनिया हो गया था। जिसे उपचार के नाम पर गर्म सलाखों से दाग दिया गया। वहीं बच्चे की मां सीमा बैरवा ने कहा कि इस दो-चार दिन से सांस की बिमारी हो गयी थी। इस पर लोगों ने इस गर्म सलाखों से डांव लगाने के लिए कहा। हमने इसके डांव लगाया लेकिन इसकी हालत में सुधार नहीं हो पाया।

दो साल की मासूम बच्ची की मौत भी हो चुकी ह
जिले में निमोनिया के बाद अंधविश्वास के चलते इस माह में ही कई बच्चों को गर्म सलाखों से दागा गया है। जिसमें बनेडा के आमली ग्राम में रहने वाली दो वर्षिय बच्ची पुष्पा बैरवा की पूर्व में ईलाज के दौरान मौत भी हो चुकी है। लेकिन फिर भी यह सिलसिला रूक नहीं पा रहा है। इसमें प्रभावी कानून भी है लेकिन फिर भी ग्रामीण इलाकों में ये बदस्तुर जारी है।

चार माह की मासूम को भी गर्म सलाखों से दागा
दूसरा मामला है मध्यप्रदेश के गुना जिले के फतेहगढ़ निवासी चार माह की परी का। परी को भी निमोनिया ठीक करने के नाम पर गर्म सलाखों से दागा गया है। जिसके बाद उसकी हालत और गंभीर हो गई है और परी को भी महात्मा गांधी चिकित्सालय में भर्ती करवाया है। जहां परी की स्थिती अभी भी गंभीर बताई जा रही है। गंभीर हालत में बालिका को भर्ती करवाया।

बिना बताए दादी ले गई और गर्म सलाखों से दगवा दिया
परी की मां पिंकी ने बताया कि परी को निमोनियां हो गया था। जिसके बाद पिंकी की  सांस किसी को बिना बताए कहीं ले गयी। जब वह परी को लेकर वापस आई तो इसके डांव लगे हुए थे।

सात बार मासूम को गर्म सलाखों से दागा
महिला बाल कल्याण समिति की अध्यक्षा सुमन त्रिवेदी ने कहा कि परी को एक नहीं करीब 7 बार गर्म सलाखों से डांव लगाये गये है। यह सब अंधविश्वास और अशिक्षा के चलते हो रहा है।

इस माह में चार मासूम बच्चों को करवाया अस्पताल में भर्ती महात्मा गांधी चिकित्सालय में इस माह में अब तक कुल 4 बच्चे भर्ती हो चूके हैं। जिन्हे गर्म सलाखों से दागा गया है। इनमें 19 अक्टूबर को लादुवास रेखा,13 जनवरी को बनेडा निवासी रेखा, 29 जनवरी को गंगापुर थाने के चावण्डिया ग्राम निवासी राजू व 30 जनवरी को एमपी के फतेहगढ़ निवासी परी को भर्ती करवाया गया है। महात्मा गांधी चिकित्सालय में साल भर में करीब 90 से अधिक मामले ऐसे आते हैं।

स्रोत : eenaduindia

प्रस्तुतकर्ता : सिकन्दर कुमार मेहता

हमसे जुड़ें –
फेसबुक : एक नास्तिक – 1manatheist

ट्विटर : @1manatheist

Advertisements

2 thoughts on “अंधविश्वास : निमोनिया होने पर मासूम को गर्म चिमटे से दागा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s