Why I Hate Vivekananda : 17 Castiest Quotes of Vivekananda

image

Vivekananda’s ”Ideological” Yatra

1. I do not propose any levelling of castes. Caste is a very good thing. Caste is the plan we want to follow.

2. The plan in India is to make everybody a Brahmin, the Brahmin being the ideal of humanity.

3.  Indian caste is better than the caste which prevails in Europe or America.

→ Which caste system prevails in Europe or America Mr. Vivekananda? Here he glorifies caste system in India!

4.  Where would you be if there were no caste? Where would be your learning and other things, if there were no caste? There would be nothing left for the Europeans to study if caste had never existed!

→ We would have been better off without caste, our situations would have been better. What learning so called caste system gave to Dalits? Caste system taught only discrimination.

→ Yeah, you guys invented caste system so that Europeans have something to study because poor Europeans didn’t have anything to study!

5. Caste should not go; but should only be readjusted occasionally. Within the old structure is to be found life enough for the building of two hundred thousand new ones. It is sheer nonsense to desire the abolition of caste.

6. Brainy Vivekananda suggested to lower castes that are fighting and writing against higher castes is of no use, learn Sanskrit and you problems will be solved! Sucha brainy was our Swami!

7. The Brahminhood is the ideal of humanity in India, as wonderfully put forward by Shankaracharya at the beginning of his commentary on the Gitâ, where he speaks about the reason for Krishna’s coming as a preacher for the preservation of Brahminhood, of Brahminness.

→  Dr. Ambedkar was against Brahminhood and Brahminism, which is a mentality of people that makes them to suppress and discriminate. Vivekananda supported Brahminism.

→ Yes, Vivekananda is against anyone fighting casteism, because fighting casteism is fighting against Brahmins, who are, of course, according to him, Gods on earth.

8. In India, even the lowest caste never does any hard work. They generally have an easy lot compared to the same class in other nations; and as to ploughing, they never do it.

→ Dalits and Shudras, in Vivekananda’s opinion, do no work. The fields plough themselves, by magic! And only hard work is done by Brahmins sitting in A.C. Temples and earning millions, sitting in A.C. is very tough work!

9. Why is India not a superpower? Of course, because we “abolished caste”: “Then what was the cause of India’s downfall? — The giving up of this idea of caste.As Gitâ says, with the extinction of caste the world will be destroyed. Now does it seem true that with the stoppage of these variations the world will be destroyed… Therefore what I have to tell you, my countrymen, is this: that India fell because you prevented and abolished caste… Let Jati have its sway; break down every barrier in the way of caste, and we shall rise.”

10. So what is the basis of the Indian’s social order? It is the caste law. I am born for the caste, I live for the caste. I donot mean myself, because, having joined an Order, we are outside. I mean those that live in civil society. Born in the caste, the whole life must be lived according to caste regulation.

11. Now look at Europe. When it succeeded in giving free scope to caste and took away most of the barriers that stood in the way of individuals, each developing his caste — Europe rose. In America, there is the best scope for caste (real Jati) to develop, and so the people are great.

→ Here Mr. Vivekananda again glorifies the caste system! First thing first, Mr. Vivekananda, there was/is no caste in western societies.

12. “As Manu says, all these privileges and honours are given to the Brahmin, because “with him is the treasury of virtue”. He must open that treasury and distribute its valuables to the world. It is true that he was the earliest preacher to the Indian races, he was the first to renounce everything in order to attain to the higher realisation of life before others could reach to the idea. It was not his fault that he marched ahead of the other caste. Why did not the other castes so understand and do as he did? Why did they sit down and be lazy, and let the Brahmins win the race?”

→ Vivekananda is a defender of Manu, the “great” law-giver, and blames the lower castes for their sorry lot. Is it surprising that most of the followers of the cult of Vivekananda are high caste Hindus?

13. The only safety, I tell you men who belong to the lower castes, the only way to raise your condition is to study Sanskrit, and this fighting and writing and frothing against the higher castes is in vain…

→ Vivekananda doesn’t want that Dalits write against their oppressors and he wants that Dalits keep on suffering silently! Lower castes fight is for equality and Sanskrit is a language of discrimination and it originated to maintain the caste discrimination. How learning Sanskrit will help lower castes get jobs, respectand dignity and how it will solve the problem of caste discrimination? I am not able to understand, can you?

14. To the non-Brahmin castes I say, wait, be not in a hurry. Do not seize every opportunity of fighting the Brahmin, because, as I have shown, you are suffering from your own fault.

15. Vivekananda blames lower castes for their suffering. Yeah, as if while studying, lower castes themselves poured lead in their own ears, cut their own tongue and plucked their own eyes after reading.

16. This Brahmin, the man of God, he who has known Brahman, the ideal man, the perfect man, must remain; he must not go.

→ Yes, Vivekananda is against anyone fighting casteism, because fighting casteism is fighting against Brahmins, who are, of course, according to him, Gods on earth.

17. This Brahmin, the man of God, he who has known Brahman, the ideal man, the perfect man, must remain; he must not go. And with all the defects of the caste now, we know that we must all be ready to give to the Brahmins this credit, that from them have come more men with real Brahminness in them than from all the other castes. That is true. That is the credit due to them from all the other castes.

References –

Swami Vivekananda, “The Abroad and the Problems at Home”, The Hindu, Madras, February 1987, in “Interviews”, The Complete Works of Swami Vivekananda,Volume 5.

Swami Vivekananda, in “The Future of India”, Delivered at Victoria Hall, Madras, in “Lectures from Colombo to Almora”, Complete Works of Swami Vivekananda, Volume 3.

Swami Vivekananda, in “Women of India”, Delivered at the Shakespeare Club House, in Pasadena, California, on January 18, 1900, in “Lectures and Discourses”, Complete Works of Swami Vivekananda, Volume 8.

Swami Vivekananda, in “A Plan of Work for India”, in “Writings: Prose”, The Complete Works of Swami Vivekananda, Volume 4.

Credit : nastiknation.org

Brought To You By : Sikandar Kumar Mehta

Follow me :

Facebook : एक नास्तिक – 1manatheist
Twitter : @1manatheist

पुजारियों की पैदावार – मीरा नन्दा

इस लेख में मीरा नंदा ने चर्चा की है कि किस तरह विश्‍वविद्यालय का दर्जा प्राप्‍त अनेक शिक्षा संस्‍थान पंडो, पुजारियों, कर्मकाण्डियों की पूरी जमात तैयार कर रहे हैं। ये लेख फ्रण्‍टलाइन पत्रिका में छपा था व इसका अनुवाद अमर नदीम ने किया।
image

मानद विश्वविद्यालय का दर्ज़ा प्राप्त कई शैक्षिक संस्थान हिन्दू कर्मकाण्डों के खुदरा व्यापारियों के लिये आपूर्ति की महत्वपूर्ण कड़ियों की भूमिका निभा रहे हैं। भारत में जो बाज़ार के लिये फ़ायदेमंद है वही देवताओं के लिये भी फ़ायदेमंद सिद्ध हो रहा है। भारतीय मध्यवर्ग अपनी भौतिक सम्पदा में वृद्धि के अनुपात में ही ‘पूजा’ और ‘होम’ में भी उत्तरोत्तर वृद्धि करना आवश्यक और अनिवार्य समझता है। हर वाहन की ख़रीद के साथ पूजा होती है; ठीक वैसे ही जैसे ज़मीन के छोटे से टुकड़े पर भी किसी निर्माण से पहले ‘भूमि-पूजन’ अनिवार्य होता है। और हर पूजा के साथ एक ज्योतिषाचार्य और एक वास्तुशास्त्री भी जुड़ा ही रहता है। और हर प्रतिष्ठित ज्योतिषाचार्य और वास्तुशास्त्री को कम्प्यूटर चलाना  और अंग्रेज़ी बोलना तो आना ही चाहिये ताकि वह अपनी बातों को “वैज्ञानिक” ढंग से प्रस्तुत कर सके।
भारत के लगातार फलते-फूलते ‘देवताओं’  के बाज़ार को देख कर एक प्रश्न सहज ही दिमाग़ में आता है- ये मॉडर्न दिखने वाले पुजारी, ज्योतिषाचार्य, वास्तुशास्त्री, और अन्य कर्मकाण्डी दुकानदार आख़िर आ कहां से रहे हैं? सभी तरह के धार्मिक कर्मकाण्डों के लिये 21वीं सदी के हिन्दुओं की इस अनन्त मांग के लिये कर्मकाण्डी पुरोहितों की आपूर्त्ति  आख़िर होती कहां से है?

मानद विश्वविद्यालय हमेशा से ही पारम्परिक गुरुकुलों और वैदिक पाठशालाओं से लेकर घरों, मन्दिरों, दफ़्तरों, दुकानों, और बड़े-बड़े कॉरपोरेट बोर्डरूमों और अनिवासी भारतीयों तक फैली इस भारतीय मध्यवर्गीय श्रँखला की एक महत्वपूर्ण कड़ी की भूमिका निभाते रहे हैं। ये विश्वविद्यालय, जिनमें से अधिकांश करदाताओं के पैसे से चलते हैं, अपने डिप्लोमा और डिग्रियों के द्वारा सक्रिय रूप से हिन्दू पुरोहित-कर्म का एक आधुनिक सँस्करण तैयार कर रहे हैं और उसे मध्यवर्ग के लिये एक आर्थिक रूप से सुविधाजनक रोज़गार के रूप में भी प्रस्तुत कर रहे हैं। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने माध्यमिक स्तर से आगे की शिक्षा में ज्योतिष और कर्मकाण्ड को सम्मिलित करने के 2001 के अपने एक कुख्यात निर्णय से पहले से ही मौजूद उन सँस्कृत संस्थाओं को एक नया जीवन-दान दे दिया जिन्हें विश्वविद्यालय का दर्ज़ा प्राप्त था। साथ ही भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय लोकतान्त्रिक मोर्चे की सरकार ने मानद विश्वविद्यालयों का एक ऐसा नेटवर्क तैयार कर दिया जो हिन्दू पुरोहितों के प्रशिक्षण के लिये लगातार प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से सहायक बना हुआ है। अब भाजपा चाहे अगले कई वर्षों तक भी राजनीतिक सत्ता से दूर रहे फिर भी सत्ता में रहते समय इसने जो संस्थागत ढांचा तैयार कर दिया था वह परम्परागत हिन्दू ज्ञान-विज्ञान को बढ़ावा देने के इसके उद्देश्य की पूर्ति करता रहेगा।

2001 में जब विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने उच्च शिक्षा में ज्योतिष शास्त्र को शामिल करने का निर्णय लिया तब तक अपने ज्योतिष और कर्मकाण्ड सम्बन्धी पाठ्यक्रम के लिये जाने माने तीन अखिल भारतीय संस्थानों को मानद विश्वविद्यालय की मान्यता मिल चुकी थी। वे संस्थान हैं- श्री लालबहादुर शास्त्री राष्ट्रीय संस्कृत विद्यापीठ, नई दिल्ली, राष्ट्रीय संस्कृत विद्यापीठ,तिरुपति, और गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय, हरिद्वार।

इन संस्थानों की विशेषज्ञता शास्त्रीय ज्ञान के बारे में है जिसमें ज्योतिष, पौरोहित्य और योग के उच्चतर पाठ्यक्रम भी शामिल हैं- वेद-वेदांग के नियमित पाठ्यक्रम के एक भाग और विशिष्ट डिप्लोमा या सर्टीफ़िकेट पाठ्यक्रमों के रूप में भी। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (और तदोपरान्त उच्चतम न्यायालय) द्वारा ज्योतिष पाठ्यक्रम को हरी झण्डी दिखाये जाने के बाद से इनका अच्छा-ख़ासा विस्तार देखने में आया। उदाहरण के लिये श्री लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय संस्कृत विद्यापीठ ने 10वीं पंचवर्षीय योजना(2002-07) के दौरान ही अपने ज्योतिष विभाग के लिये नये उपकरण ख़रीदे और एक जन्म-कुण्डली बैंक स्थापित किया। ज्योतिष और पौरोहित्य में अंश-कालिक डिप्लोमा और सर्टीफ़िकेट कार्यक्रमों को प्रारंभ  करके भी इसने अपने प्रभाव-क्षेत्र का विस्तार किया। पर यह तो पानी पर तैरते हिमशैल का शिखर मात्र था।

मई 2002  में नई दिल्ली स्थित राष्ट्रीय संस्कृति संस्थान(आर एस एस) को विश्वविद्यालय की  मान्यता मिल गई। यह पुरानी और प्रतिष्ठित संस्था (स्थापना-1970) जो लम्बे समय से प्राचीन  संस्कृत पाण्डुलिपियों और संस्कृत विद्वानों के संरक्षण के कार्य में लगी हुई थीअब नये पाठ्यक्रम बनाने, नये कोर्स प्रारम्भ करने और नई डिग्रियां प्रदान करने के लिये अधिकृत कर दी गई। इसके दसों कैम्पसों (इलाहाबाद,पुरी,जम्मू,त्रिचूर,जयपुर,लखनऊ,श्रिंगेरी,गरली,भोपाल,मुम्बई) को भी विश्वविद्यालयों के समकक्ष होने की मान्यता मिली हुई है अर्थात उनमें से प्रत्येक (विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के पहले से ही परम उदार दिशा-निर्देशों के दायरे के अन्तर्गत) नये पाठ्यक्रम तैयार करने और डिग्रियां और डिप्लोमा प्रदान करने के लिये अधिकृत है। संस्थान इन कैम्पसों और नई दिल्ली और तिरुपति के उपरोक्त विद्यापीठों की गतिविधियों को समेकित करने के लिये केन्द्रक की भूमिका निभाता है। ग़ैर सरकारी गुरुकुलों और वैदिक पाठशालाओं को अनुदान और वित्तीय सहायता देना इसके कार्यभारों में से एक है। संस्कृत डिग्री धारकों के लिये रोज़गार के अवसर बेहतर करने के लिये संस्थान ज्योतिष और कर्मकाण्ड से जुड़े पाठ्यक्रमों के लिये छात्र वृत्तियां भी देता है। इसी सन्दर्भ में उन दो संस्थाओं को अभी हाल में ही ‘योग विश्वविद्यालय’ की मान्यता दिये जाने का उल्लेख भी आवश्यक है जो सीधे-सीधे ज्योतिष और कर्म-काण्ड से तो नहीं जुड़े हैं परन्तु फिर भी पुजारियों की अनवरत आपूर्ति सुनिश्चित करने में जिनकी भूमिका  महत्वपूर्ण है। वे संस्थायें हैं- बेंगलुरु स्थित स्वामी विवेकानन्द योग अनुसन्धान संस्था(SVYAS)  जिसे विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने 2001 में मान्यता प्रदान की थी, और मुंगेर फ़ोर्ट, बिहार स्थित बिहार योग भारती जिसे 2000 में विश्वविद्यालय के समकक्ष होने की मान्यता मिली।

पुरोहित-प्रशिक्षण संस्थानों के इस उलझे हुये ताने-बाने में दो और धागे भी हैं। केन्द्र सरकार उज्जैन स्थित महर्षि सान्दीपनि राष्ट्रीय वेद विद्या प्रतिष्ठान को वित्तपोषित करती है जो देश भर में कुकुरमुत्तों की तरह उगती ग़ैर सरकारी वैदिक पाठशालाओं और गुरुकुलों को मान्यता और धन उपलब्ध कराने वाली संस्था के रूप में कार्य करता है। इन गुरुकुलों का मानकीकरण और उदीयमान पुरोहितों के लिये परीक्षाएं आयोजित करना इस संस्था के कार्यभारों में से हैं। इस संस्था से मान्यता मिलना गुरुकुलों की दुकान चलाने के लिए माने रखता है।

पूर्वोक्त मानद विश्वविद्यालयों के अलावा भी विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा अनुमोदित राज्य स्तरीय विश्वविद्यालयों की एक श्रेणी है जिसमें मध्यप्रदेश स्थित महर्षि महेश योगी का विश्वविद्यालय और रामटेक, महाराष्ट्र स्थित कवि कुलगुरु कालिदास संस्कृत विश्वविद्यालय शामिल हैं। इन्हें विश्वविद्यालय अनुदान आयोग से  विश्वविद्यालय की पदवी स्थापना के पश्चात नहीं मिली अपितु इनकी तो स्थापना ही इनके प्रान्तीय विधान-मण्डलों द्वारा अपने आप में सम्पूर्ण विश्वविद्यालयों के रूप में की गई थी और बाद में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा मान्यता प्रदान कर दी गई।

महर्षि महेश योगी वैदिक विश्वविद्यालय की स्थापना कांग्रेस मुख्यमन्त्री दिग्विजय सिंह के कार्यकाल में 1995 में राज्य विधानमण्डल के सर्वसम्मत प्रस्ताव द्वारा की गई थी। ऐसा महेश योगी को मध्य प्रदेश के अपने धरतीपुत्र के रूप में सम्मानित करने के लिये किया गया था। यह संस्था सभी तरह के वैदिक ज्ञान में पी एच डी आदि उच्च शैक्षिक उपाधियों का स्त्रोत बन चुकी है। इसके अनेक स्नातकों ने आगे चल कर कई मुनाफ़ा कमाने वाले उद्योग स्थापित किये और/या वास्तुशास्त्रियों, ज्योतिषियों, रत्नशास्त्रियों इत्यादि के तौर पर अकादमियों की स्थापना की।
image

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की मान्यता प्राप्त ये राज्य-स्तरीय विश्वविद्यालय और योग विश्वविद्यालय देश भर में जहां-तहां उगते छोटे-मोटे गुरुकुलों और वैदिक पाठशालाओं के लिये अन्तिम सीढ़ी की भूमिका निभाते हैं। इनमें से कई पौरोहित्य पाठशालायें छोटे-छोटे साधनहीन लड़कों (लड़कियां निषिद्ध हैं) को प्रवेश देकर उन्हें पारम्परिक कर्म-काण्ड का प्रशिक्षण देते हैं। पर क्योंकि वे अकादमिक डिग्रियां प्रदान करने के लिये अधिकृत नहीं हैं अतः वे अपने छात्रों को किसी भी ऐसे मानद या मान्यताप्राप्त राज्य-स्तरीय विश्वविद्यालय में भेज देते हैं जिसकी विशेषज्ञता योगिक अथवा वैदिक विज्ञानों में हो जिनके दायरे में मोटे तौर पर ज्योतिष से लेकर योग तक सभी कुछ आ जाता है। इससे पुजारियों और कर्मकाण्डियों के रूप में देश-विदेश के बाज़ारों में उनके विद्यार्थियों की ‘मार्केटेबिलिटी’ बेहतर हो जाती है।

ये सही है कि संस्कृत की शिक्षा का हिन्दू धर्म के कर्मकाण्डों से गहरा सम्बन्ध है और कई बार दोनों को अलग-अलग करना कठिन होता है। यज्ञ या पूजा संस्कृत की डिग्री प्राप्त करने के लिये यजुर्वेद के अध्ययन का एक प्रायोगिक पहलू मात्र है। परन्तु संस्कृत में लिखे धार्मिक साहित्य के अध्यापन और कर्मकाण्डों के अध्यापन के बीच में कोई सीमारेखा खींचने का प्रयास करने के स्थान पर भारतीय शिक्षा व्यवस्था ठीक विपरीत दिशा में मुड़ गई है। यह संस्कृत और हिन्दू दर्शन की शिक्षा की आड़ में जनता के पैसे और संसाधनों का उपयोग हिन्दू कर्मकाण्डों को बढ़ावा देने के लिये कर रही है।

अगर भारत अपने सार्वजनिक संसाधन मानद विश्वविद्यालयों के माध्यम से बहुमत के धर्म को प्रोत्सहित करने में झोंकता है तो क्या वह ख़ुद को एक धर्मनिरपेक्ष गणराज्य कह सकता है?

स्रोत  – http://smashfascism.net

प्रस्तुतकर्ता: सिकन्दर कुमार मेहता

हमसे जुड़ें –

फेसबुक : एक नास्तिक -1manatheist
ट्विटर : @1manatheist

Cow slaughter to be punishable by life sentence in Gujarat

Cow slaughter to be punishable by life sentence in Gujarat

Government of Indian state to introduce a bill bolstering existing laws against butchering the revered animals

image
An Indian woman prays to a holy cow. Slaughtering the revered animals will soon be punishable by a life sentence in Gujarat. Photograph: Rajesh Kumar Singh/AP

The leader of an Indian state has announced that slaughtering cows and transporting beef will soon be punishable by a life sentence, the harshest penalty yet for crimes against the revered animal in the Hindu-majority country.

The chief minister of Gujarat,Vijay Rupani, said his government would introduce a bill in the next week to bolster existing laws against butchering cows and related crimes. The current punishment is a Rs 50,000 fine (£622) and up to seven years in jail.

“We want to make this law more strict,” said Rupani, a member of the Bharatiya Janata party (BJP), a Hindu nationalist party whose elected officials – including the Indian prime minister, Narendra Modi – have long championed a national ban on beef consumption.

“In the bill, we will make a provision where in people found involved in cow-slaughtering as well as transportation of beef will be punished with life imprisonment,” Rupani told a gathering at a Hindu social organisation. “Their vehicles too will be seized permanently.”

A number of BJP-led states have extended bans or tightened punishments against cow slaughter since Modi became prime minister in 2014. The former Gujarat chief minister was elected on a platform that included a vow to outlaw it.

Killing cows or transporting beef in states such as Haryana, Jharkand or Jammu and Kashmir is punishable by large fines and up to 10 years’ prison. Beef consumption is permitted in only eight of India’s 29 states and territories.

Most Hindus honour cows as the embodiment of the principle of non-violence and idealise the animal as a selfless, nourishing mother.But attitudes towards beef consumption are not uniform across the country. Some southern Indian Hindus regularly eat beef, as do Muslims and members of less socially dominant castes who regard the animal as a cheap source of protein.

The Modi government has reportedly asked the country’s agriculture ministry to explore the possibility of a nationwide ban but has chosen to tread carefully in implementing its election promise.

Cow protection has been a trigger for sectarian violence throughout modern Indian history and a resurgence in recent years has been linked to an increasingly assertive Hindu nationalist movement.

A Muslim villager from the outskirts of Delhi was lynched in September 2015 after being accused of storing beef in his freezer, a murder that government ministers were accused of underplaying.

Bands of self-styled “cow protectors” have sprung up in northern India, and have been accused of fomenting sectarian violence and carrying out vigilantism.

Cow-protection gangs were rebuked by Modi last year after videos emerged of their members flogging young Dalits. The least powerful group in the caste hierarchy is traditionally enlisted to dispose of dead cows.

Credit : The Guardian

Brought To You By : Sikandar Kumar Mehta

Follow Me

Facebook : एक नास्तिक -1manatheist

Twitter : @1manatheist