Atheists in Muslim world: Silent, resentful and growing in number

image
Photo by: Oded Balilty

BABYLON, Iraq — Lara Ahmed wears a headscarf and behaves like a pious Muslim.

But the 21-year-old Iraqi woman hides a secret from her peers at the University of Babylon: her atheism.

“I was not convinced by the creation story in the Quran,” she said. “Besides, I feel religions are unjust, violate our human rights and devalue women’s identities.”

She doesn’t dare share her strong beliefs with strangers.

“I wear a headscarf despite being an atheist,” said Ms. Ahmed, who studies biology at the school, about 115 miles south of Baghdad. “It is difficult not to wear it in southern Iraq. Few women take the risk not to cover their hair. They face harassment everywhere.”

Her fears stem from the remarks of powerful politicians such as Ammar al-Hakim, the head of Iraq’s Islamic Supreme Council, a major Shiite political party and the president of the National Alliance, a Shiite parliamentary bloc.

“Some are resentful of Iraqi society’s adherence to its religious constants and its connection to God Almighty,” Mr. al-Hakim said on his party’s TV channel in May, claiming a rising tide of atheism was threatening the Arab world. “Combat these foreign ideas.”

Statistics on atheism in the Middle East and North Africa are hazy, but analysts say Ms. Ahmed represents an increasing trend basedon recent developments.

In 2014, an Egyptian government-run Islamic legal institute, citing a dubious international study, said that only 866 atheists lived in the country of more than 90 million. Recently released court statistics saying thousands of Egyptian women sought divorce in 2015 claiming their husbands were atheists — one of the few ways women can initiate divorce under Islam — suggested the numbers might be far higher.

In 2011, the now-defunct Kurdish news agency AK news published a survey finding that 67 percent of Iraqis believed in God and 21 percent said God probably existed, while 7 percent said they did not believe in God and 4 percent said God probably did not exist.

Today, the information revolution fueled by the internet, the freedoms released by the Arab Spring, the growing power of sectarian religious parties and the rise of the harsh orthodoxy ofthe Islamic State have all fueled growing unbelief in God and traditional religions, said atheists and others.

“For youths, who are the majority of new atheists, the savagery of the Islamic caliphate established by the Islamic State of Iraq and Syria in 2014 created a reaction that [has] shaken the religion’s image,” said Ali Abdul kareem Majeed, 22, a non atheist Iraqi sociology student who conducted a study on atheism for a religious body that he asked not to be identified for his safety.

Social Media Shutdown

Last year, Facebook shut down more than 50 atheist, Arabic-language pages in after extremist Muslim groups campaigned to remove them, according to a petition sent to Facebook by the Atheist Alliance-Middle East and North Africa, a U.S.-based global atheist federation.

Many of those Facebook pages have been since been relaunched.

In March 2015, U.S.-based Iraqi and other Arab atheists launched the Arabic and English-language Free Mind television and magazine websites, which promote atheistic view points and have recorded more than 1 million visits so far.

That led scholars at Al-Azhar University, a pre-eminent Sunni Muslim center of learning in Cairo, to call on Egyptian President Abdel Fattahel-Sissi to push Free Mind organizers to repent or face execution by beheading. Mr. el-Sissi responded by suggesting that those who insulted religion should lose their Egyptian citizenship.

Even so, online atheist programming is easily available in Arabic now.

Atheism is not illegal in Egypt or Iraq, but officials often level blasphemy or other charges against atheists in those countries. Those rejecting the faith face the death sentence in Saudi Arabia, Iran, theUnited Arab Emirates, Qatar, Yemen, Somalia, Sudan and Mauritania.

Many atheists in the region say their bigger fear is not being punished for their beliefs but that they will become targets of violent sectarian groups seeking political support from the faithful.

“It is a distraction from the fact that Islamists were not able to accomplish anything over the past 13 years,” said Faisal al-Mutar, a U.S.-based Iraqi human rights activist who heads Ideas Beyond Borders,a nonprofit that supports minorities in the Middle East. “So they want to create ‘anenemy’ to keep [the] constituency united against and avoid being held accountable for their mistakes.”

Keeping their beliefs secret is the norm for atheists of all backgrounds throughout the region.

In Jordan, an Amman-based writer at the Free Mind Magazine — whose last name is Farouki but who asked to keep her first name secret — said she is nearly estranged from her family, angered by her rebellion against religion. “They see me as insane,” said Farouki, 50.

“Jordanians can not accept atheists, and it is highly possible to be killed if you are one.”

Social media has provided atheists with a meeting place and source of information.

“Most of my atheist friends have not changed all of a sudden,” said Osama Dakhel, 21, a fine arts student in Baghdad. “Some were so devoted at first exploring the religion’s minute details. They start to read for Islamic reformers. Then they start to accept other opinions, discuss atheists online and end up atheists.”

Ahmed Abdul-Aziz, 22,a medical student in upper Egypt, also writes openly for the Free Mind Magazine on atheism. “It is easier to announce your ideas in Cairo,” he said. “Nobody would look after you, but in small rural towns, everyone watches the other.”

Even so, Mr. Abdul-Aziz said, he hides his beliefs from his own family.

“They will feel angry even modern Islamic ideas,”he said. “I am forced to attend the Friday prayers and fast during Ramadan. I feel uneasy to practice things I do not believe in.”

Ms. Ahmed paid a price for unwittingly drawing notice for not praying or fasting during Ramadan at the University of Babylon. “A colleague called me an ‘infidel’ and insisted on waking me up at dawn to pray,” she said. “I faced problems even for not using the name of Allah to swear.”

Source : The Washington Times, LLC

Brought To You By : Sikandar Kumar Mehta

Follow me :

Facebook : एक नास्तिक – 1manatheist
Twitter : @1manatheist

स्‍त्री क्‍या चाहती है ?

रविवार डाइजेस्ट पत्रिका में एक बहस चल रही है : स्त्री क्या चाहती है? इस बहस में मई अंक में कविता कृष्‍णपल्‍लवी का ये लेख प्रकाशित हुआ है।

image

स्त्री क्या चाहती है?
सब से पहले तो आजादी
कविता कृष्‍णपल्‍लवी

बुनियादी सवाल यह नहीं है कि स्‍त्री क्‍या चाहती है, बल्कि यह है कि उसे क्‍या चाहना चाहिए, उसकी चाहत क्‍या होनी चाहिए, या वस्‍तुगत तौर पर स्‍त्री की मनुष्‍यता की शर्तें क्‍या हो सकती हैं।
स्‍त्री क्‍या चाहती है? यह प्रश्‍न कई अवस्थितियों से, कई धरातलों पर पूछा जा सकता है और इसके उत्‍तर भी इतनी ही भिन्‍नताएँ लिये हुए होंगे।

स्‍त्री की चाहत समय और समाज की चौहद्दी का अतिक्रमण नहीं कर सकती।

आज से सौ या पचास साल पहले की स्‍त्री की चाहत वही नहीं थी जो आज की स्‍त्री की है। सामाजिक विकास और सामाजिक चेतना के स्‍तरोन्‍नयन के साथ स्‍त्री चेतना भी उन्‍नत हुई है और उसकी इच्‍छाओं-कामनाओं-स्‍वप्‍नों के क्षितिज का विस्‍तार हुआ है। दूसरी बात यह है कि इतिहास के एक ही कालखण्‍ड में
एक कुलीन मध्‍यवर्गीय स्‍त्री की चाहत एक मेहनतकश स्‍त्री की चाहत से भिन्‍न होती है।
यानी सामाजिक वर्गीय स्थिति भी स्‍त्री की इच्‍छा, कामना और स्‍वप्‍नों की अन्‍तर्वस्‍तु और स्‍वरूप का निर्धारण करती है।
सामान्‍यीकरण करते हुए स्‍त्री की चाहत के बारे में यदि कुछ कहना ही हो तो कहा जा सकता है कि स्‍त्री आजादी चाहती है। लेकिन हर स्‍त्री के लिए आजादी का बोध अलग-अलग है, उसकी चेतना के सापेक्ष है। आजादी के मिथ्‍याभास से ले कर वास्‍तविक, वस्‍तुगत आजादी के बोध के बीच तक स्‍त्री-चेतना का व्‍यापक वर्णक्रम फैला हुआ है। प्रबुद्ध स्त्रियों को ही लें, तो कुछ स्त्रियाँ स्‍त्री समुदाय की गुलामी के लिए पुरुषों को जि़म्‍मेदार मानती हैं, कुछ पितृसत्‍ता और पुरुषवर्चस्‍ववाद को, कुछ परिवार के पितृसत्‍तात्‍मक ढाँचे को, कुछ पुरुषों द्वारा निर्धारित स्‍थापित यौन व्‍यवहार की रूढि़यों को, और कुछ जैविक पुनरुत्‍पादन की स्त्रियों की प्राकृतिक विशिष्‍टता को ही स्त्रियों की गुलामी का मूल कारण मानती हैं। अपने इन्‍हीं सोचों के हिसाब से कुछ स्त्रियाँ सभी पुरुषों के खि़लाफ़ शाश्‍वत युद्धघोष करती रहती हैं और अन्‍धविद्रोह के जुनून में इस मूल प्रश्‍न पर सोच ही नहीं पातीं कि इस युद्ध का नतीजा क्‍या होगा और स्त्रियों को मुक्ति हासिल कैसे होगी? कुछ स्त्रियाँ लगातार विमर्श करते हुए सामाजिक ढाँचे, मूल्‍यों, संस्‍थाओं और स्‍त्री-पुरुष के अन्‍तरवैयक्तिक सम्‍बन्‍धों में पुरुष-वर्चस्‍ववाद और पितृसत्‍ता की शिनाख्त करती रहती हैं, पर व्‍यावहारिक समाधान कुछ नहीं बतातीं। कुछ व्‍यावहारिक समाधान के तौर पर परिवार के विध्‍वंस, विवाह और एकनिष्‍ठ प्‍यार के रिश्‍तों की समाप्ति, विज्ञान की मदद ले कर प्रजनन के काम से मुक्ति, या पुरुष वर्चस्‍वनिष्‍ठ सेक्‍सुअल रूढ़ियों को चकनाचूर करने के लिए विचलनशील यौन व्‍यवहार (‘डेविएण्‍ट सेक्‍सुअल बिहेवियर’ जिसके उदाहरण ‘एलजीबीटीक्‍यू मूवमेण्‍ट’ में मिलते हैं) के ध्‍वंसवादी अराजकतावादी नारे देती रहती हैं, लेकिन उनके पास व्‍यापक स्‍त्री समुदाय को लामबन्‍द करने का न तो कोई कार्यक्रम होता है, न ही स्‍त्री-पुरुष समानता आधारित वैकल्पिक सामाजिक ढाँचे और मूल्‍यों-संस्‍थाओं का कोई मानचित्र। कुछ ही ऐसी प्रबुद्ध प्रगतिशील स्त्रियाँ मिलेंगी जो नृतत्‍वशास्‍त्र और इतिहास के साक्ष्‍य से इस तथ्‍य को समझती हैं कि पितृसत्‍ता और पितृसत्‍ता-आधारित परिवार संस्‍था का जन्‍म इतिहास में निजी सम्‍पत्ति, वर्ग और राज्‍यसत्‍ता के उद्भव के साथ हुआ था और उनके समूल नाश की नियति भी इन्‍हीं के विलोपन के साथ जुड़ी हुई है। ऐसी प्रबुद्ध स्त्रियाँ सम्‍पूर्णत: स्‍त्री मुक्ति को एक दूरवर्ती लक्ष्‍य मानती हैं और स्त्रियों के मुक्ति संघर्ष को मेहनतकशों के उस मुक्ति संघर्ष से जोड़ने की बात करती हैं, जिसका फौरी निशाना पूँजीवादी तंत्र होता है, लेकिन दूरगामी लक्ष्‍य निजी सम्‍पत्ति, वर्गों और राज्‍यसत्‍ता का विलोपन होता है।
यह तो हुई प्रबुद्ध स्त्रियों की बात, लेकिन यदि आम शिक्षित मध्‍यवर्गीय (विशेषकर युवा) स्त्रियों की बात करें तो उनकी आजादी की परिभाषा और उनकी चाहतों की प्रकृति मुख्‍यत: उनकी उस ‘मिथ्‍या चेतना’ (‘फॉल्‍स कांशसनेस’) से तय हो रही है जो ‘माल अन्‍धपूजा’ (‘कमोडिटी फेटिशिज्म’) की उपभोक्‍ता संस्‍कृति से जन्‍मी है। उपभोक्‍ता वस्‍तुओं की चमक-दमक से मोहाविष्‍ट यह आबादी स्‍वयं अपने वस्‍तुकरण की प्रक्रिया को नहीं समझ पाती, मुद्रा की शक्ति से स्‍थूल ऐन्द्रिक आनन्‍द हासिल करने की हैसियत के चलते सिर्फ अपनी आजादी (वह भी मिथ्‍याभासी) के बारे में सोचती है और कई बार रूढियों-वर्जनाओं को तोड़ने की झोंक में अराजक यौन व्‍यवहार तक करने लगती है। कालान्‍तर में इन्‍हें भी उन्‍हीं मध्‍यवर्गीय गृहिणियों में शामिल हो जाना होता है, जो या तो तीज-जिउतिया-करवाचौथ में लगी रहती हैं, या यौन सुख की अतृप्ति और दाम्‍पत्‍य की बोरियत को झेलती हुई असमय बूढ़ी होती रहती हैं, माइग्रेन और डिप्रेशन का इलाज कराती रहती हैं, किटी पार्टियों और पार्लरों में स्‍वयं को व्‍यस्‍त रखती हैं, या अपने पतियों की बेवफाई और बेरुखी का बदला लेने के तर्क से अपने अपराध बोध का शमन करके विवाहेतर रिश्‍तों और पुरुष-वेश्‍याओं (मेल-एस्‍कोर्ट या गिगोलो) का सहारा लेने लगती हैं। एक विवाहिता कामकाजी स्‍त्री भी इन विडम्‍बनाओं से मुक्‍त नहीं होती। यह दुखी स्‍त्री समुदाय भी अपने अँधेरों से बाहर आना चाहता है, अपनी आत्‍मा को खोल कर रख देने के लिए प्‍यार और दोस्ती चाहता है, जि़न्‍दगी में कुछ नयापन चाहता है, पर इसका रास्‍ता उसे नहीं पता। इन‍ स्त्रियों के पास भौतिक अभाव की पीड़ा उतनी नहीं है, जितनी आत्मिक रिक्‍तता की घुटन। बदहवास ये अपनी मुक्ति की राह ढूँढ़ती रहती हैं, जीते-जीते थक कर निढाल होती रहती हैं और अँधेरे में दीवारों से टकरा-टकरा कर घायल होती रहती हैं।
निम्‍न मध्‍यवर्गीय गृहिणियों का बहुलांश ‘ऑटो-सजेस्टिव’ ढंग से स्‍वयं को ‘कनविंस’ कर लेता है कि उसके पति और बेटे के सुख, कामयाबी और तरक्‍की की चाहत ही उसकी अपनी चाहत है। कभी किसी असावधान क्षण में उसकी अपनी कोई अधूरी-अतृप्‍त इच्‍छा-कामना सिर उठाती है तो वह बड़ी सुखाने चली जाती है, टीवी पर सीरियल देखने लगती है, ज्यादा से ज्यादा मोल-तोल के लिए संकल्‍पबद्ध होकर सब्‍जी खरीदने निकल पड़ती है, या फिर किसी एक पड़ोसन के घर दूसरी पड़ोसनों और उनके बिगड़ते बाल-बच्‍चों की शिकायत करने पहुँच जाती है। फिर भी, ऐसी स्‍त्री भी कई बार रात में मानो किसी घुटन भरे सपने से जाग कर सहसा उठ बैठती है और सोचने लगती है कि एक लय के साथ फूलती-पिचकती तोंद वाला, कानफाड़ू खर्राटा लेता यह कौन है जो उसके बाजू में लेटा हुआ है? घबरा कर वह आँगन में या छत पर निकल आती है और कुछ देर उदास तारों की छाँव तले बैठी रहती है।
मजदूर स्त्रियों की जि़न्‍दगी ही ऐसी होती है कि उनकी आजादी के स्‍पेस से जुड़े बहुतेरे सवालों को उनकी रोजमर्रा की जद्दोजहद का फौरी सवाल बना देती है। कमरतोड़ महँगाई में घर चलाने के लिए वह घर से बाहर निकलती है तो बहुधा उसे अपने पति के विरोध का भी सामना करना पड़ता है जो चाहता है कि पत्‍नी बाहर निकलने की जगह घर पर ही पीस रेट पर ला कर कुछ काम कर लिया करे। इस विरोध का सफलतापूर्वक सामना करके वह बाहर निकलती है और बाहर फैली हुई दुनिया में न सिर्फ़ पगार बढ़ाने और अधिकारों की लड़ाई में शामिल होने की जरूरत महसूस करने लगती है, बल्कि सुपरवाइजर-फ़ोरमैन और सड़क के शोहदों की गन्‍दी निगाहों और गन्‍दी हरकतों का मुक़ाबला करते हुए उसे अपनी आजादी के लिए रोज़-रोज लड़ते हुए जीने का सलीका भी बेहतर ढंग से आ जाता है। *आर्थिक स्‍वतंत्रता के कारण, निकृष्‍टतम कोटि की उजरती गुलामी और घर में भी किसी हद तक पुरुष स्‍वामित्‍व को झेलने के बावजूद मज़दूर स्त्रियों के जीवन में मध्‍यवर्गीय स्त्रियों की अपेक्षा जीवन रस अधिक होता है, उनकी इच्‍छाओं-कामनाओं का क्षितिज अधिक विस्‍तारित होता है और वर्णक्रम अधिक वैविध्‍यपूर्ण होता है।* मजदूर बस्तियों में काम करने के अपने लम्‍बे अनुभव के दौरान मैंने पाया है कि आधुनिकता के जीवन मूल्‍यों का प्रवेश मज़दूर स्त्रियों के जीवन में ज्‍़यादा स्‍वस्‍थ रूपों में हुआ है। महानगरों की मजदूर बस्तियों में युवा स्‍त्री-पुरुष मजदूरों और मजदूरों के युवा बेटे-बेटियों के बीच प्रेम और विवाह की घटनाएँ लगातार ज्‍़यादा से ज्‍़यादा आम होती जा रही हैं। अब ऐसी शादियाँ जाति ही नहीं, बल्कि राष्‍ट्रीयताओं की दीवारों को भी तोड़ कर हो रही हैं। शराबखोरी, आवारागर्दी या महज न पटने के कारण भी मजदूर स्त्रियाँ कई बार बिना किसी हिचक-परेशानी के अपने पति को छोड़ देती हैं और दूसरे किसी मजदूर के साथ घर बसा लेती हैं। अब ये चीजें उतना विवाद या लोकापवाद का विषय भी नहीं बनतीं।
स्‍त्री चाहती क्‍या है? — अब इस सवाल को एक दूसरे तरीके से देखें। स्‍त्री अपनी चाहत को जो अभिव्‍यक्ति देती है, वह वास्‍तव में उसकी ‘मिथ्‍या चेतना’ (‘फॉल्‍स कांशसनेस’) की उपज होती है। आम स्‍त्री की चेतना, उसकी इच्‍छा, कामना, कल्‍पना और सपने उस सामाजिक परिवेश द्वारा अनुकूलित होते हैं, जिस पर पितृसत्‍तात्‍मकता का वर्चस्‍व स्‍थापित होता है। इसलिए, प्राय: वह वही चाहती है, जो चाहने के लिए उसका मानसिक अनुकूलन किया गया है, या उस दायरे में चाहती है (आजादी, प्‍यार या कुछ भी) जो उसके लिए तय किया गया है। इसलिए, बुनियादी सवाल यह नहीं है कि स्‍त्री क्‍या चाहती है, बल्कि यह है कि उसे क्‍या चाहना चाहिए, उसकी चाहत क्‍या होनी चाहिए, या वस्‍तुगत तौर पर स्‍त्री की मनुष्‍यता की शर्तें क्‍या हो सकती हैं। फिर भी, कोई भी मानसिक अनुकूलन सम्‍पूर्ण नहीं हो सकता। भौतिक-आत्मिक वंचना और उत्‍पीड़न की वस्‍तुगत स्थिति से उपजी चेतना हर स्‍त्री की अनुकूलित चेतना से टकराती है और इस संघात से सपनों-कामनाओं-आकांक्षाओं की झील के शान्‍त तल पर मुक्ति की लहरें उठने लगती हैं जो कभी-कभी उत्‍ताल तरंगें भी बन जाती हैं। ये लहरें और तरंगें खण्डित और अधूरी मुक्ति चेतना के रूप में सामाजिक परिवेश की दीवारों से टकराती और टूटती रहती हैं।
बूढ़े गोरियो की बेटियाँ (बाल्‍जाक का उपन्‍यास ‘ओल्‍ड गोरियो’) पूरी तरह से एक ‘मिथ्‍या चेतना’ के वशीभूत हैं और बेइंतहा प्‍यार करने वाले बूढ़े पिता को निचोड़ कर रंगरलियाँ मनाना ही उनके लिए मुक्ति और आनन्‍द का पर्याय है। वे अपने आप में बूर्जुआ स्‍वार्थपरता का मूर्त रूप हैं और अपनी कामनाओं की बन्‍दी हैं। फ्लाबेयर के उपन्‍यास ‘मदाम बोवारी’ की नायिका एम्‍मा अपने दाम्‍पत्‍य जीवन की एकरसता, बोरियत और निरुद्देश्‍यता से स्‍वाभाविक तौर पर परेशान है और चिरनवीन प्‍यार की यूटोपियाई आत्‍मकेन्द्रित आकांक्षा में विवाहेतर प्रणय सम्‍बन्‍धों में भटकती हुई स्‍वयं को तबाह कर लेती है तथा अन्‍तत: मृत्‍यु का वरण करती है। व्‍यवस्‍था की अदृश्‍य दीवारें अन्‍तत: उसका गला घोट देती हैं। तोल्‍स्‍तोय की अन्‍ना कारेनिना भी कुछ अलग ढंग से इसी नियति का शिकार होती है। टॉमस हार्डी की एक नायिका टेस प्‍यार की तलाश में अपने समय की यौन नैतिकता के मानकों से टकराती है और उसकी कीमत चुकाती है। आशापूर्णा देवी की उपन्‍यास-त्रयी (‘प्रथम प्रतिश्रुति’, ‘सुवर्णलता’ और ‘बकुल कथा’) की नायिकाएँ सत्‍यवती, सुवर्णलता और बकुल तीन पीढ़ियों की स्त्रियाँ हैं और स्‍त्री अस्मिता और आजादी के बारे में उनके देश-काल-निबद्ध बोध अलग-अलग हैं, उनके चिन्‍तन के आकाश अलग-अलग हैं और उनके उद्यमों के दायरे भी अलग-अलग हैं। अपर्णा सेन की फि़ल्‍म ‘परोमा’ की नायिका अपने नीरस उबाऊ दाम्‍पत्‍य का एहसास होने पर उससे उबरने के लिए स्‍वत:स्‍फूर्त ढंग से एक विवाहेतर भावनात्‍मक सम्‍बन्‍ध को शरण्‍य बनाती है और जब उससे बाहर आती है तो अपनी स्‍वतंत्र स्‍त्री अस्मिता का बोध उपलब्धि के तौर पर उसके पास होता है। जब्‍बार पटेल की फि़ल्‍म ‘सुबह’ की नायिका सामाजिक सरगर्मियों के बीच अपने पारिवारिक जीवन की निस्‍सारता महसूस करती है और उससे बाहर आ कर एक अनिश्चित भविष्‍य की ओर यात्रा की शुरुआत करती है। शरतचन्‍द्र के उपन्‍यास ‘शेष प्रश्‍न’ की नायिका कमल न केवल अपने समय की हर नैतिक रूढ़ि पर प्रश्‍न उठाती है और जीवन को तर्क की कसौटी पर कसती है, बल्कि प्रणय और विवाह के मामले में भी विद्रोही आचरण करती है। कमल की तर्कणा और चिन्‍तन की स्‍वतंत्रता ही उसके जीवन की सार्थकता और संतुष्टि का स्रोत है। चेर्निशेव्‍स्‍की के उपन्‍यास ‘क्‍या करें’ की नायिका वेरा पाव्‍लोव्‍ना परिवार और ‘अरेंज्‍ड मैरिज’ के दमघोंटू माहौल से विद्रोह करके इस नतीजे पर पहुँचती है कि स्त्रियों की मुक्ति के लिए आर्थिक स्‍वतंत्रता पहली शर्त है। अपनी निजी मुक्ति को वह स्त्रियों की सामूहिक मुक्ति से जोड़ती है और समाजवादी सहकारी संस्‍थाओं के निर्माण के प्रयोगों के दौरान इस नतीजे पर पहुँचती है कि स्‍त्री-पुरुष की वास्‍तविक समानता, वास्‍तविक प्रेम और स्त्रियों की वास्‍तविक आजादी के लिए सामाजिक ढाँचे का समाजवादी पुनर्गठन अनिवार्य है। वेरा चेर्निशेव्‍स्‍की की उस प्रगतिशील यूटोपिया का मूर्त रूप है, जिसे मार्क्‍सवाद ने वैज्ञानिक रूप देते हुए आगे विकसित किया।
एक जाग्रत स्‍त्री आजादी चाहती है, सच्‍चा जीवन्‍त प्‍यार चाहती है, निर्णय की स्‍वतंत्रता चाहती है और मनुष्‍यता की उपलब्धियों और संधानों में पुरुष के साथ बराबरी की भागीदारी चाहती है। लेकिन स्त्रियों के जाग्रत होने के स्‍तर अलग-अलग हैं, इसलिए स्‍वयं वे अपनी मुक्ति की शर्तों और रास्‍ते को सुसंगत रूप में नहीं समझतीं, बल्कि विरूपित और खण्डित रूपों में महसूस करती हैं। हमारे आसपास मदाम बोवारी, अन्‍ना कारेनिना, टेस, कमल, सुवर्णलता, बकुल, बूढ़े गोरियो की बेटियाँ, परोमा, ‘सुबह’ की नायिका आदि अभी भी मौजूद हैं जो स्त्रियों की अतृप्‍त कामनाओं, अधूरे सपनों, खण्डित चाहतों, विरूपित आकांक्षाओं तथा अन्‍धे और आत्‍मकेन्द्रित मुक्ति प्रयासों के मूर्त रूप हैं। साथ ही, यहाँ-वहाँ कुछ वेरा पाव्‍लोव्‍ना भी मौजूद हैं और उसकी उत्‍तरवर्ती पीढ़ियाँ भी। स्त्रियों की मुक्ति के लिए जजरूरी है कि वे वेरा पाव्‍लोव्‍ना की अगली पीढ़ी की तरह कामना करना सीखें, सपने देखना सीखें और लड़ना सीखें।

***************
प्रस्तुतकर्ता : सिकन्दर कुमार मेहता

हमसे जुड़ें –

फेसबुक : एक नास्तिक -1manatheist

ट्विटर : @1manatheist

Hawking: ‘I’m an atheist, science is more convincing than God’

Follow Tweets by @1manatheist

The world’s preeminent theoretical physicist has explicitly acknowledged for the first time that he is an atheist, explaining that “science offers a more convincing explanation” of the origins of the universe than ‘God.’

In an article published in the leading Spanish daily El Mundo, Hawking clarified an in famous passage in his international best selling book A Brief History of Time, in which he wrote:

“If we discover a complete [unifying] theory, it would be the ultimate triumph of human reason—for then we should know the mind of God.”“What I meant by ‘we would know the mind of God’ is, we would know everything that God would know, if there were a God, which there isn’t,” Hawking, 72, told El Mundo reporter Pablo Jáuregui. “I’m an atheist.”

“Before we understand science, it is natural to believe that God created the universe,” said Hawking. “But now science offers a more convincing explanation.”Although Hawking does not believe in any supernatural ‘God,’ he is convinced that earth isn’t the only planet harboring intelligent life.“The idea that we are alone in the universe seems to me completely implausible and arrogant,” Hawking told El Mundo. “

Considering the number of planets and stars that we know exist, it’s extremely unlikely that we are the only form of evolved life.”But Hawking warned humans would be wise to proceed with extreme caution when attempting to reach out to extraterrestrial beings, comparing any first contact to Christopher Columbus’ arrival in the Americas.

“[That] didn’t turn out very wellfor the Native Americans,” he noted.

Hawking, who has previously stated that he doesn’t believe humanity will survive the next thousand years “unless we spread into space,” reiterated his assertion that space exploration was humankind’s best hope for long-term survival.

“It could prevent the disappearance of humanity by colonizing other planets,” he said.

Hawking’s ‘coming out’ was among the worst-kept secrets in the world of science. He has strongly hinted at his atheism on numerous occasions.

In a 2010 conversation with evolutionary biologist Richard Dawkins, Hawking was asked if he believed the origin of life on earth is nothing more than coincidence.

“The existence of the earth and the properties that made it possible for biological life to develop depend on a very fine balance between the so-called constants of nature,” he explained. “If they were more than slightly different, either planets like the earth would not occur or the chemical processes necessary for life would not take place.”

“One might take this as evidence of a divine creator, but an alternative explanation is what is known as the multiverse,” Hawking continued. “The idea is that there are many possible universes [and] only in the small number of universes that are suitable will intelligence beings develop and be able to ask the question, ‘Why is the universe so carefully designed?’

“Hawking has even resorted to the sort of provocative anti-religion rhetoric that made Dawkins a household name and the world’s most famous atheist.

Comparing the human brain toa computer, Hawking suggested to the Guardian in a 2011 interview that ‘heaven’ was a “fairy story.”

“I regard the brain as a computer which will stop working when its components fail,” he explained when asked what happens when people die. “There is no heaven or afterlife for broken down computers; that is a fairy story for people afraid of the dark.”
When asked by ABC’s Diane Sawyer in 2010 whether there was a way to reconcile science and religion, Hawking cited a “fundamental difference between religion, which is based on authority, [and] science, which is based on observation and reason.”

“Science will win because it works,” he asserted.Still, Hawking has also occasionally confused observers by seemingly leaving the door open to the possibility of a ‘God.’

During a 2010 CNN interview with Larry King, for example, Hawking said, “God may exist, but science can explain the universe without the need for a creator.

”But his “we could know the mind of God” passage has been seized upon by some religious believers, who erroneously claim Hawking is aman of faith, or at least an agnostic. His latest comments, however, leave no doubt abou this atheist beliefs.

Source : Digital Journal

Brought To You By : Sikandar Kumar Mehta

Follow Me –

Facebook : एक नास्तिक – 1manatheist

Twitter : @1manatheist

Meet The Man Who Is Fighting The Superstitions In The Society And Trying To Bring Rationality

image
Narendra Nayak Pic- The Logical Indian

Follow Tweets by @1manatheist

Narendra Nayak is a well-known rationalist, intellectual, and Godman debunker from Mangalore, Karnataka.
He is the current president of the Federation of Indian Rationalist Association (FIRA) .
He conducts workshops around the country to promote scientific thinking while also showing the participants how to identify frauds spreading misinformation in the name of religion.
To promote this thought, he founded Nirmukta .

The objectives as presented on their website are.

*.To provide a platform for the freethought and secular humanist community in India and South Asia.

*.To promote a naturalistic life philosophy as a moral and fulfilling alternative to religion and spirituality.

*.To promote secular humanism, equality, social justice, communal harmony and human rights.

*.To promote scientific literacy and to fight against pseudo-science.

*.To consciously work towards building a culture of secularism, and promote a secular public policy keeping with our constitution.

The Logical Indian spoke to Narendra Nayak about secularism, uniform civil code, and much more.

Here are the excerpts of the interview.

How did you come about forming Nirmukta?

Ten years ago, a friend contacted me, saying we should open a website to promote rationalism and logic. I was sceptical about the usefulness about creating a website to spread the message.
Initially, the site was only about my travels and experiences. Later, it became more independent and developed an identity of its own. Today, Nirmukta is a bustling platform of informed debate and discussion on virtually every topic.

What is your opinion on Jalikattu?

I have no take on it as such since I haven’t researched on the essentials of this question. But I feel that cruelty to animals should not be tolerated in any manner.

Should India adopt a uniform civil code?

Definitely. Secularism mandates a uniform civil code. That is a matter of principle. At the same time, we should keep in mind that the implementation of a uniform civil code will pose its challenges.
For example, how will a UCC be implemented in the North-east where civil law is essentially a matter of local beliefs and tribal traditions? So we have to be prepared to meet these challenges.

What, according to you, is secularism?

The total separation of religion and State. A Government should not support any religion; it should distance itself from religion indulgences.
This by no means makes a State anti-religion; it makes it a modern State.

The indoctrination of children to the religion of their family is a topic we rarely discuss.
What is your view on it?

Allocating religious beliefs based onthe accident of birth does not makeany logical sense.

A child should beallowed to make his or her choice when they are able. This is particularly true for Indian society where knowledge is primarily a factor of experience.

How can we counter the indoctrination of children?

Fifteen years ago, we had proposeda Bill to identify true secularism, essentially a statement by the State saying it would not play a role in religion. It, of course, failed.
If you have a political system that thrives on religion and blind belief, how can you counter the indoctrination of children in the first place?

How free should free speech be?

In principle, completely. However, we must penalise speech that directly incites violence. But other kinds of speech should not be banned in my opinion.
Take blasphemous speech, for instance. The very concept of criminalising blasphemous speech is irrational. You are saying that people should be punished for seemingly having issues with what they believe is a non-existent entity. This is not right. They should be allowed to speak about what they believe exists and does not exist. Free speech is the basis of a civilised society. Without it, we descend to fascism and disorder.

Should we tax religious institutions?

Definitely. All religious institutions are a form of business. We should suitably tax all religious institutions – temples, mosques, churches, all of them.

What is the biggest challenge that the world faces today?

Economic inequality and the rise of different kinds of fundamentalism.

What is the biggest challenge that India faces today?

The same that the world faces I would say.

If you were to give a piece of advice to India’s youth, what would it be?

“Let’s learn to be human beings first.”

• This is a guest post originally posted by Sudhanva Shetty on The Logical Indian .

Brought To You By : Sikandar Kumar Mehta

Follow Me –

Facebook : एक नास्तिक – 1manatheist
Twitter : @1manatheist

मेरे धार्मिक मामलों में दखल देने का किसी को अधिकार नहीं : टीएस ठाकुर

नई दिल्ली, जेएनएन। देश-दुनिया में बढ़ती धार्मिक असहिष्णुता से चिंतित सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश जस्टिस टीएस ठाकुर ने कहा है कि इंसान और भगवान के बीच रिश्ता बेहद निजी होता है। इससे किसी अन्य का कोई मतलबनहीं होना चाहिए।

उनका कहना था, ‘मेरा धर्म क्या है? मैं अपने ईश्वर के साथ कैसे जुड़ता हूं? उनकी इबादत किस तरह से करता हूं? यह बेहद निजी मामला है। मेरे धार्मिक मामलों में दखल देने का किसी को कोई अधिकार नहीं है।’ जस्टिस ठाकुर रविवार को सर्वोच्च न्यायालय के जज रोहिंटन एफ नरीमन द्वारा पारसी धर्म पर लिखित एक पुस्तक का लोकार्पण कर रहे थे। उन्होंने समाज में शांति के लिए सहिष्णुता की भावना विकसित करने पर जोर दिया।

प्रधान न्यायाधीश के अनुसार, ‘इस दुनिया में राजनीतिक संघर्ष के मुकाबले धार्मिक लड़ाइयों में ज्यादा लोग मारे गए हैं। लोगों ने एक-दूसरे को नास्तिक और काफिर कह कर मार दिया। धार्मिक मान्यताओं के कारण संसार में ज्यादा तबाही और नरसंहार हुए हैं।’वह बोले, ‘मैं ईश्वर की पूजा कैसे करता हूं? उनसे क्या रिश्ता रखता हूं। इससे किसी का कोई लेना देना नहीं होना चाहिए।’

न्यायमूर्ति ठाकुर ने कहा, ‘मैं सोचता हूं कि आपसी भाईचारा, सहिष्णुता के संदेश के साथ यह बात अगर जन-जन तक जाए कि सभी धर्मों के रास्ते एक ही ईश्वर को जाते हैं तो विश्वमें शांति, समृद्धि बढ़ेगी। इस दिशा में जस्टिस रोहिंटन ने महत्वपूर्ण कार्य किया है।’

प्रस्तुतकर्ता : सिकन्दर कुमार मेहता

Source : http://www.jagran.com/

Burn Your Money

Follow Tweets By @1manatheist

Here in India we have the festival of lights, Diwali. These days it wouldn’t be wrong to call it the festival of sound as well. Sometimes I think, it would be right to call it the “Money Burning Festival”. I’ll tell you how.

“It’s not about the money. It’s about sending a message.” As the Joker put it aptly. What we’re doing during this festival, is just that. Burning money. We light crackers (or as some would say, ‘burst’ them) all through the evenings. Some people don’t stop till 1 in the morning. But why do we partake in this act of futility?

Because a lot of us don’t fucking care. We don’t care about the people and animals who we are troubling. We don’t care about the air and the environment we’re destroying. It’s evident in Delhi, where the air quality index has more than doubled since Diwali started. In Mumbai, where I live, the pollution isn’t that bad because it’s near the coast, while Delhi is in the interior.

This year I did not light a single cracker, nor did my little sister, who would, until last year, put up tantrums if not allowed to light some. But others? Oh well. What kind of message do they want to send?

As a sidenote to anyone reading this who is not acquainted with practices in India, it’s not a tradition to light crackers during diwali. Since centuries people only used to light lamps, candles and diyas, in remembrance of Ram’s return to the city that he ruled. But during the early 19oos, some apparently sociopathic businessman who was into the matches industry started promoting crackers as a way to ‘celebrate’ the festival. And a lot of us Indians have fallen prey to this sinister plan of his, not bright enough to understand that it’s a waste of money and resources, and in no way does it represent the spirit of the festival. So until there’s a reform, feel free to burn your money and send a message !

Courtesy : Effusion Of Perceptions

Brought To You By : Sikandar Kumar Mehta

Follow me :

Facebook : एक नास्तिक – 1manatheist

Twitter : @1manatheist

आस्तिक और नास्तिक

आस्तिक और नास्तिक

Follow Tweets by @1manatheist

• जिस प्रकार आस्तिकों की “आस्था”होती है और आस्तिक लोग जब भी मौका या समय मिलता है अपनी आस्था व्यक्त करने से लिए तथा अपनी आस्था के समर्थन में विचार रखने के लिए बिल्कुल भी चुकते नहीं हैं।।

ठीक इसी प्रकार नास्तिक लोगों की “नास्था” होती है और यदि नास्तिकों को अवसर मिलता है तो वे अपनी नास्था  व्यक्त और प्रकट क्यों नहीं कर सकते हैं।।

• आस्तिकों की मंशा होती है कि सभी लोग उनकी तरह पत्थर को भगवान् माने और अंधभक्ती डुबे रहे और इसके लिए समय-समय पर आस्तिकों द्वारा अनेक कार्यक्रम भी कराएं जाते हैं।।

ठीक इसी तरह नास्तिक चाहते हैं कि सभी लोग तर्क करना सीखें और सच को जाने  व अधिक से अधिक लोग अंधविश्वास और पाखंड को छोड़कर “सार्वभौमिक ज्ञान” को खुद स्वीकार कर और लोगों को बताएं।।

• आस्तिकों को आस्था और भावना का सम्मान होना चाहिए।।

ठीक इसी तरह नास्तिकों के नास्था और भावनाओं को सम्मान मिलना चाहिए।।

• नास्तिकों की बात से आस्थावान व्यक्ति की आस्था आहत होती है।।

ठीक इसी प्रकार आस्तिकों के बात से इनकी अंधभक्ति देख के नास्थावान तर्कशील जागरूक व्यक्ति को भी गहरा आघात पहुंचता है।।

• हर आस्तिक अंधविश्वासी व्यक्ति नास्तिक वास्तविक व्यक्ति को हेय घृणा की नजर से देखता है और उससे बात करने से कतराता है।।

लेकिन नास्तिकों के मन में आस्तिकों के लिए ऐसी भावना नहीं होती वह तो हर आस्तिक व्यक्तियों से चर्चा कर सच तक पहुंचने की कोशिश करता है।।

• आस्तिक व्यक्ति नास्तिक से चर्चा करने ही भागता है जबकि नास्तिक व्यक्ति आस्तिकों के साथ चर्चा बातचीत के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।।

• आस्तिक पौराणिक ग्रन्थों की बात करते हैं।।

नास्तिक प्राचीन और आधुनिक  दोनों काल के विश्व के अनेक देशों के विद्वानों की रचनाओं और उनकी शिक्षा की  बात करते हैं।।

• भारत के आस्तिक सिर्फ भारतीयों द्वारा लिखित धर्म ग्रंथों की बात करते हैं।।

नास्तिक हर देश के विद्वान और हर धर्म में समाहित ज्ञान की बात करते हैं।।

• हिन्दू आस्तिक सिर्फ बाह्मणों की लिखी हुई काल्पनिक कथा पढते हैं।

जबकि हिन्दू नास्तिक सभी प्रकार के विचारधाराओं वाली तर्क और सत्य पर आधारित पुस्तक पढते हैं।।

• आस्तिक लोग अपने धर्म ग्रंथों में लिखी बातों को ही सही मानते हैं।।

नास्तिक लोग सार्वभौमिक सत्य और तर्क पर खरा उतरने वाली बात को सही मानते हैं।।

• आस्तिक लोग नास्तिकों को अपने जैसा बनाने का प्रयास नहीं करते।।

नास्तिक लोग आस्तिकों को अपने जैसा बनाने का प्रयास करते रहते हैं।।

• आस्तिक लोग नास्तिकों को अपना नहीं मानते।।

नास्तिक लोग आस्तिकों को अपना मानते हैं और उन्हें जागरूक करना चाहते हैं।।

• आस्तिक धर्म और ईश्वर पर अपने विचार रखते हैं तो कोई बात नहीं होती।।

जब नास्तिक धर्म और ईश्वर पर अपने विचार रखते हैं तो किसी को बुरा नहीं लगना चाहिए।।

• आस्तिक किसी नास्तिक को अपने जैसा आस्तिक बनाने का कोई प्रयास नहीं करता।।

मगर नास्तिक सभी आस्तिकों को अंधविश्वास से आजाद करने के लिए हमेशा प्रयत्नशील रहता।।

स्रोत : व्हाट्स ऐप

प्रस्तुतकर्ता : सिकन्दर कुमार मेहता