Constitutional Rights of Atheists and Non-believers

Though atheism has been socially prevalent in India, it has remained a grey area in the legal context. There are no specific laws catering to atheists and they are considered as belonging to the religion of their birth. The Constitution provides for “freedom of conscience” under Article 25 since 1950, but constitutional rights of “non-believers” …

Continue reading Constitutional Rights of Atheists and Non-believers

Advertisements

कट्टरवाद और तुष्टिकरण की राजनीति

कुछ दिन पहले कोलकाता के एकेडमी ऑफ फाइन आर्ट्स के प्रांगण में एक पेड़ के नीचे कुछ लोग दो पत्थर रखकर चले गए। उसके बाद न जाने कब उन पत्थरों पर लोगों ने फूल रख दिए, फिर उनकी पूजा शुरू हो गई। अब उन्हें हटाना मुश्किल था। फिर भी एक नास्तिक ने उन्हें हटाने की …

Continue reading कट्टरवाद और तुष्टिकरण की राजनीति

धर्म को चाहिए नया प्रबंधन

धर्म की जड़ें हजारों साल में तैयार हुई हैं, मगर इसके समानांतर विज्ञान की सामाजिक जड़ें तैयार करने में हमें उतनी सफलता नहीं मिली। धर्म सामाजिक जीवन से तब जाता है, जब विज्ञान, वैज्ञानिक चेतना और विकास की जड़ें समाज में बनें। धर्म सामाजिक जीवन से अपदस्थ हो, इसके लिए नास्तिकों को सम्मान की नजर …

Continue reading धर्म को चाहिए नया प्रबंधन

नास्तिक ब्लॉगर की हत्या की गुत्थी अब तक अनसुलझी

नास्तिक ब्लॉगर की हत्या की गुत्थी अब तक अनसुलझी बांग्लादेश में तीन साल पहले ब्लॉगर अभिजीत रॉय की हत्या कर दी गई थी. लेकिन अब तक इस मामले में पुलिस चार्जशीट तक दाखिल नहीं कर सकी है. पिता अजय रॉय इसके लिए सरकार को दोषी मानते हैं. विडियो देखें - प्रस्तुतकर्ता : सिकन्दर कुमार मेहता …

Continue reading नास्तिक ब्लॉगर की हत्या की गुत्थी अब तक अनसुलझी

ग्रेट पेरियार नायकर के ईश्वर से कुछ सवाल

1977 की बात है,मद्रास हाईकोर्ट में एक याचिका आई जिसमें कहा गया था कि तमिलनाडु में पेरियार की मूर्तियों के नीचे जो बातें लिखी हुई हैं, वे आपत्तिजनक हैं और लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाती हैं इसलिए उन्हें हटाया जाना चाहिए। याचिका को खारिज करते हुए हाईकोर्ट ने कहा कि ईरोड वेंकट रामास्वामी …

Continue reading ग्रेट पेरियार नायकर के ईश्वर से कुछ सवाल

‘Don’t call me Muslim, I am an atheist’

Writer-in-exile Taslima Nasreen calls for reining in religious fundamentalism, saying that criticism of religion is not the domain of non-Muslim intellectuals alone Writer Taslima Nasreen fled Bangladesh in 1994 when extremists threatened to kill her for criticising Islam, and has been living in exile since. Her country has, in recent times, seen many intellectuals expelled …

Continue reading ‘Don’t call me Muslim, I am an atheist’

Letter: Terrorism has no race, creed or religion

Terrorism has no race, creed or religion It is important to remember the seriousness of a mass shooting, or any terrorist attack, regardless of the race of the perpetrator. Why is it that one must be a Muslim to be a terrorist? Terrorism has no race, creed or religion. Extremism is not unique to Islam. …

Continue reading Letter: Terrorism has no race, creed or religion